गणेश जी की कहानी सास बहूँ वाली | Ganeshji Ki Kahani gneshji-ki-kahani-saas-bahu-wali

By | September 18, 2020

श्री गणेश जी भगवान की कहानी

एक सास बहु थी | सास उसकी बहु को खाना नहीं देती थीं | बहु रोज नदी पर जाती तो जाते समय घर से आटा ले जाती | नदी के पानी से आटा गूंधती | गणेश जी भगवान  के मन्दिर के दीपक से घी लेती भोग में से गुड लेती , पास के श्मशान में बाटी सेकती | बाटी  में घी गुड मिलाकर चूरमा बनाती और गणेश जीभगवान  के भोग लगा कर खुद जीम लेती | ऐसा करते बहुत दिन हो गये यह देखकर गणेश जी भगवान  को बहुत आश्चर्य हुआ और उन्होंने अपने नाक पर ऊँगली रख ली |

बहु तो घर आ गई परन्तु जब दुसरे दिन मन्दिर के पट खुले तो लोगो ने देखा गणेशजी भगवान की नाक पर ऊँगली हैं तो मन्दिर में भीड़ एकत्रित हो गई | गाँव के लोगो ने हवन ,पूजा की पर गणेशजी  भगवान ने ऊँगली नहीं उतारी | तब सारे गाँव में कहलवा दिया की जों कोई गणेश जी भगवान  के नाक से ऊँगली हटवायेगा उसे राजाजी सम्मानित करेंगे | बहु ने सास से कहा सासुजी में कोशिश करूंगी तब सास बोली इतने बड़े बड़ेपंडित विद्धवानकोशिश कर लिए तू क्या करेगी |

सब लोग मन्दिर के बाहर एकत्रित हो गये बहु घुंघट निकाल कर अंदर गयी पर्दा लगाया और गणेश जी से हाथ जोड़ कर बोली हे विघ्नहर्ता  मैं मेरे घर से आटा लाती , लोगो का चढाया घी घुड लेती, श्मशान में बाटी सेकती उसमे आपको क्या आपति हुई | आपको मुँह से ऊँगली हटानी पड़ेगी | गणेश जी ने सोचा इसकी बात तो मान नी  पड़ेगी | इसने पहले मेरे भोग लगाया | यह तो मेरी भक्त हैं | गणेश जी भगवान ने ऊँगली हटा ली |और बहूँ को आशीर्वाद दिया की इस गाँव में सभी प्रेम से रहेंगे | बहूँ मन्दिर से बाहर आई 

गणेश जी की कहानी 

करवा चौथ की कहानी पढने के लिये यहाँ क्लिक करे

दशामाता की पूजा , व्रत विधि ,कहानी पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

गणगौर की कहानी पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

सब गाँव वालो ने कहा बहूँ तूने ऊँगली कैसे हटवाई तू तो जादूगरनी हैं | तब बहु ने सारी बात गाँव वालो को बताई की मेरी सास मुझे खाना नहीं देती थी , तब मैं घर से आटा लाकर , नदी के पानी से आटा लगाकर , बाटी बनाकर . श्मशान में सेककर , गणेशजी के दीपक से घी ,प्रसाद में से गुड चुराकर गणेश जी के भोग लगाकर खुद खा लेती इसलिये गणेशजी को आश्चर्य हुआ और उन्होंने नाक पर ऊँगली रख ली , और मेरी प्रार्थना पर ऊँगली हटा ली और मुझे वरदान दिया की अब इस गाँव में सब प्रेम से रहेंगे |

धर्मराज जी की कहानी , व्रत विधि , आरती यहाँ से पढ़े

हे गणेशजी भगवान जैसे बहु का मान बढ़ाया वैसे ही सब का मान बढ़ाना रक्षा करना |

 Ganeshji Ki Kahani gneshji-ki-kahani-saas-bahu-wali

Ganeshji Ki Kahani gneshji-ki-kahani-saas-bahu-wali

 

सातुडी तीज [ कजली तीज ] बड़ी तीज व्रत की चार कहानीया 2020 | Kajli Teej Vrat Ki Char Kahaniya 2020

अन्य समन्धित पोस्ट

अन्य समन्धित कथाये

कार्तिक स्नान की कहानी 2 

कार्तिक मास में राम लक्ष्मण की कहानी 

इल्ली घुण की कहानी 

तुलसी माता कि कहानी

पीपल पथवारी की कहानी

करवा चौथ व्रत की कहानी

आंवला नवमी व्रत विधि , व्रत कथा 

लपसी तपसी की कहानी 

देव अमावस्या , हरियाली अमावस्या

छोटी तीज , हरियाली तीज व्रत , व्रत कथा 

रक्षाबन्धन शुभ मुहूर्त , पूजा विधि 15 अगस्त 2019

कजली तीज व्रत विधि व्रत कथा 18 अगस्त 2019

भाद्रपद चतुर्थी व्रत कथा , व्रत विधि

नाग पंचमी व्रत कथा

हलधर षष्ठी व्रत विधि व्रत कथा [ उबछठ ]

जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत कथा

गोगा नवमी पूजन विधि , कथा

सोमवार व्रत की कथा

सोलह सोमवार व्रत कथा व्रत विधि

मंगला गौरी व्रत विधि , व्रत कथा

स्कन्द षष्टि व्रत कथा , पूजन विधि , महत्त्व

ललिता षष्टि व्रत पूजन विधि महत्त्व

कोकिला व्रत विधि , कथा , महत्त्व

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.