लपसी तपसी की कहानी | Lapsi Tapsi Ki kahani

Spread the love
  • 139
    Shares

Last updated on August 19th, 2019 at 11:14 am

लपसी तपसी की कहानी

Lapsi Tapsi Ki kahani

एक लपसी था , एक तपसी था | तपसी तो भगवान की तपस्या करता था और लपसी सवा सेर की लपसी बना कर उसका भोग लगाकर जीम लेता | एक दिन दोनों लड़ने लगे | लपसी बोला में बड़ा , तपसी बोला में बड़ा | इतने में नारदमुनि आये और बोले तुम क्यों लड़ रहे हो ? तो लपसी ने कहा मैं बड़ा हूं और तपसी ने कहा मैं बड़ा हूँ | तपसी बोला मैं सारे दिन भगवान की पुजा करता हूँ | यह सुन नारद जी ने कहा मैं तुम्हारा फैसला कल कर दूंगा |

दुसरे दिन लपसी , तपसी नहाकर आये तो नारद जी ने सवा करोड़ की अंगूठी उनके आगे फेक दी | लपसी का ध्यान उस अंगूठी पर नहीं गया | तपसी तपस्या करने बैठा तो उसे अंगूठी दिखी और उसने अपने घुटने के नीचे दबा ली और तपस्या करने लगा | लपसी लापसी बनाकर उसका भगवान के भोग लगाकर जीमने बैठ गया |

धर्मराज जी की कहानी पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

इतने में नारद जी आये तब दोनों से पूछा कि कौन बड़ा हैं ? फिर तपसी ने कहा मैं बड़ा हूँ | नारदजी बोले तेरा घुटना उठा तो उसके नीचे सवा करौड की अंगूठी निकली | तब नारद जी बोले कि ये अंगूठी तूने चुराई हैं तुझे तेरी तपस्या का फल नही मिलेगा | तब तपसी बोला हे ! नारद मुनि मेरी तपस्या का दोष कैसे दुर होगा ?  नारद जी ने कहा “ रोटी बना कर बाटया नहीं बनाया तो फल तुझे होगा | ब्राह्मण जीमा कर दक्षिणा नही दे तो फल तुझे होगा | साड़ी देके ब्लाउज नहीं दिया तो फल तुझे होगा | दिया से दिया जलावे तो फल तुझे मिलेगा |

 सब व्रत त्यौहार की कहानी सुनने के बाद तेरी कहानी नही सुने तो फल तुझे होगा | तब से लपसी तपसी की कहानी सुनी जाती हैं | कहानी सुनने के बाद ऐसे कहे “ लपसी को फल लपसी न होज्यो , तपसी को फल तपसी न होज्यो , म्हाकी कहानी कथा को फल म्हाने होज्यो |

          || जय विष्णु भगवान की जय ||

अन्य समन्धित पोस्ट

देव अमावस्या , हरियाली अमावस्या

छोटी तीज , हरियाली तीज व्रत , व्रत कथा 

रक्षाबन्धन शुभ मुहूर्त , पूजा विधि 15 अगस्त 2019

कजली तीज व्रत विधि व्रत कथा 18 अगस्त 2019

नाग पंचमी व्रत कथा

हलधर षष्ठी व्रत विधि व्रत कथा [ उबछठ ]

जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत कथा

गोगा नवमी पूजन विधि , कथा

सोमवार व्रत की कथा

सोलह सोमवार व्रत कथा व्रत विधि

मंगला गौरी व्रत विधि , व्रत कथा

स्कन्द षष्टि व्रत कथा , पूजन विधि , महत्त्व

ललिता षष्टि व्रत पूजन विधि महत्त्व

कोकिला व्रत विधि , कथा , महत्त्व