नारायण गायत्री मन्त्र | naayayan gaaytri mantr

कार्तिक पूर्णिमा

विष्णु गायत्री मन्त्र

नारायणाय विद्महे वासुदेवाय धीमहि तन्नो विष्णु: प्रचोदयात |

इस मन्त्र का मन , कर्म , वचन से पवित्र होकर शुद्ध चित से स्मरण करने एक , तीन , इक्कीस अथवा एक सौ आठ बार जप करने से सभी कार्य निर्विघ्न सम्पन्न हो जाते हैं | इस सर्वसिद्धिप्रदायक मन्त्र का जप करने से पारिवारिक क्लेश का नाश होता हैं |  प्रत्येक कार्य में सफलता प्राप्त होती हैं |भगवान विष्णु के लोक में स्थान प्राप्त होता हैं |

अन्य समन्धित पोस्ट

शनि  मन्त्र

कार्तिक स्नान की कहानी 2 

कार्तिक मास में राम लक्ष्मण की कहानी 

इल्ली घुण की कहानी 

तुलसी माता कि कहानी

पीपल पथवारी की कहानी

करवा चौथ व्रत की कहानी

आंवला नवमी व्रत विधि , व्रत कथा 

लपसी तपसी की कहानी 

देव अमावस्या , हरियाली अमावस्या

छोटी तीज , हरियाली तीज व्रत , व्रत कथा 

रक्षाबन्धन शुभ मुहूर्त , पूजा विधि 15 अगस्त 2019

कजली तीज व्रत विधि व्रत कथा 18 अगस्त 2019

भाद्रपद चतुर्थी व्रत कथा , व्रत विधि

नाग पंचमी व्रत कथा

हलधर षष्ठी व्रत विधि व्रत कथा [ उबछठ ]

जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत कथा

गोगा नवमी पूजन विधि , कथा

सोमवार व्रत की कथा

सोलह सोमवार व्रत कथा व्रत विधि

मंगला गौरी व्रत विधि , व्रत कथा

स्कन्द षष्टि व्रत कथा , पूजन विधि , महत्त्व

ललिता षष्टि व्रत पूजन विधि महत्त्व

कोकिला व्रत विधि , कथा , महत्त्व

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top