सती माता का गीत | Satimata Ka Geet Ratijgaa me gaya jane vala

माघ स्नान तीसरा अध्याय

सती माता का गीत

 

मेहंदी रची थार हाथ मं, काजल घुल रहयो आख्या मं।  चुदंडी को रंग सुरग, माँ राणी सती, माँ दादी सती।

फूल खिल्या थारा बागा में, चांद उग्यों हैं राता मं। माँ धारो इतनो सुहानों रूप, माँ राणी सती, माँ दादी सती।

रूप सुहाणों जद में देखु, निंदडली नहीं आख्यां म। मेरे मन पर जादु कर गयो, थारी मीठी बाता मं।

भूल गयी सब कामा मं, याद करूं धारा नामा नं। माया को झुठो फंद, माँ राणी सती, माँ दादी सती।

 

मेहंदी रची थार हाथ मं, काजल घुल रहयो आख्या मं।

थे कहों तो दादी थारी ओ… थे कहो तो दादी थारी नथनी बन जाऊं मं,

नथनी तो बन जाऊं। थारे होठा में रम जाऊं मं, चुडलों बनू थारा हाथा मं। बोर बनु थारा माथा मं, बनजाऊं बाजुबंद माँ राणी सती माँ दादी सती।

मेहंदी रची थार हाथ मं, काजल घुल रहयो आख्या मं।

थे कहो तो दादी थारी, पायलडी बन जाऊ मं। पायलडी बन जाऊ थारे चरणा मं, रम जाऊ मं। हार बनु थारे गला मं, मोती बधाऊ थारे घुंघट मं। नैना में कर लूं बंद, मा राणी सती माँ दादी सती।

मेहंदी रची थार हाथ मं, काजल घुल रहयो आख्या मं।

अन्य समन्धित पोस्ट

पित्रानी जी का गीत 

तेजाजी गोगाजी का गीत 

म्हारे पितर देवता आवो थारो रातिजगो हैं आज

पितर पधारो म्हारे आगनिये 

सती माता का गीत 

सासुजी का गीत 

घर आवो जी रसीला पितर खेलों म्हारे आनग्निये

थांका बाबाजी के आगे दुधही निमडी 

पितर ऊबा बारने जी 

सबी देवता का गीत 

One Comment on “सती माता का गीत | Satimata Ka Geet Ratijgaa me gaya jane vala”

  1. सभी को नमस्कार! क्या हाल है? आप कैसे हैं? आपके परिवार के सदस्य कैसे हैं? आज मैं आपको लिख रहा हूं। हम सभी अच्छे काम करने के लिए इस दुनिया में आए हैं। मुझे भगवान विष्णु माघ मास की कथा दिवस 19 अध्याय 05 फरवरी 2023 तक के लिए आपसे एक एहसान की आवश्यकता है, मेरा मतलब है कि सभी अध्याय क्योंकि लोग आप भाइयों और बहनों या तो बड़ों के पास हैं वितरित करने के लिए बहुत ज्ञान। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कौन सी भाषा है। हिंदी मेरे लिए बहुत बेहतर है। आम तौर पर मैं हिंदी नहीं जानता लेकिन अगर आप मुझे हिंदी भेजते हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मैं हिंदी को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए Google अनुवाद लेता हूं। केवल इतना ही कि मुझे आपकी मदद की जरूरत है। कृपया अपना समय लें हमेशा मैं जल्दी में नहीं हूं। यह आप पर निर्भर करता है क्योंकि आप लोग हर समय व्यस्त रहते हैं। क्योंकि व्यवसाय आपके लिए पहली जगह है। आप सबसे बड़े देश में रहते हैं और आपको रोजाना बहुत से केस मिलते हैं। कभी-कभी आप पूरे दिन व्यस्त रहते हैं। यही आपके लिए व्यवसाय है। तुम वही बैठे हो। हमेशा बिजनेस फर्स्ट क्योंकि पहले अपने परिवार का ख्याल रखें आपकी आय क्या है अपने परिवार का ख्याल रखें। हमेशा दो बार सोचो। आप मदद करना चाहते हैं, यह आप पर निर्भर है। याद रखें मैं आपके देश में नहीं रह रहा हूं। आपको भगवान से आशीर्वाद नहीं लेना है, बहुत बहुत धन्यवाद! भगवान, विष्णु आप सभी को बहुतायत से आशीर्वाद दें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.