रातीजगा के गीत | थांका बावाजी के आगे दुधही निमडी

RATIJGAA GEET

पितर जी – 5

थांका बावाजी के आगे दुधही निमडी,

जंड खेले म्हारे सजड अहुत, कटोरा पिव दुध का, बांकी दादया साला मे घाल्यो पालनो,

जंड झुले म्हारे सजड अहुत,

कटोरा पिव दुध का

थांका दादाजी के आगे दुध ही नीमडी..

जंड खेले म्हारे सजड अहुत,

कटोरा पिव दुध का सब परिवार वालों के नाम ले के गीत को आगे  बढ़ावे

पितर जी-6

फलज तिर रहियो रे समदर मे जावर बेठया भोला उत, बांका बावाजी रे बुलावे तो ये न आव भोला उत, बांका दादाजी रे बुलावे तो ये न आव भोला उत, बेरी दुशमन की बोल्या पर दोडया आव भोला उत फलज तिर रहिया समदर मे…

चाचा मामा नाना सबको नाम ले गीत को आगे बढ़ाओ

पितर जी-7

थांका बावाजी रे आगण मे राय चमेली रो रूख, थांका दादाजी रे आगणा मे राय चमेली रो रूख, थे तो खेलो भोला उत मखा मोगरा की बीच, ते तो बर्फी को दुन्यो ल्यो, म्हाने गोद जडुलो दयो,

चाचा मामा नाना सबको नाम ले गीत को आगे बढ़ाओ

थांकी

बैठया रोज्यो जी पितर म्हारा आया

धांका काकाजी रे बुलावे.. थांकी छोटी सी बाड़ी में……

गीत को परिवार वालों के नाम लेके आगे बढायें।

पितर जी-9

पितरज आया म्हारे गाया रे गुथाडे, तो गाया बाछा जाया जी,

म्हारे पितरज आया.

पितरज आया म्हारे बहुवा रे ओवरड, तो बहुवा बेटा जाया जी म्हारे पितरज आया. पितरज आया म्हारे बेटया रे ओवरड तो,

बेटया दोयता जाय जी म्हारे पितरज आया। चोदसडी न न्योता म्हारे मावसडी घर आया, तो जीम चुठ घर जावोजी म्हारे पितरज आया। हसता हसता आशीष देवो,

बाबाजी रो वंश बधावो जी म्हारे पितरज आया।

ANY SMNDHIT POST

पितृ प्रदेश में 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.