अंधी बुढिया माई पर गणेशजी भगवान की कृपा की कहानी | ANDHI BUDHIYA MAAI AUR GANESH JI BHGWAN KI KAHANI

By | September 21, 2020
अंधी बुढिया माई पर गणेशजी भगवान की कृपा की कहानी | ANDHI BUDHIYA MAAI AUR GANESH JI BHGWAN KI KAHANI

 

अंधी बुढिया माई पर गणेशजी भगवान की कृपा की कहानी |

ANDHI BUDHIYA MAAI AUR GANESH JI BHGWAN KI KAHANI

एक अंधी बुढ़िया थी, जिसका एक लड़का और बहू थी। वह बहुत गरीब थी। वह अंधी बुढ़ियामाई  नित्यप्रतिदिन  गणेशजी की पूजा किया करती थी। माई कई पूजा से प्रसन्न होकर एक दिन गणेशजी भगवान साक्षात्‌ सन्मुख आकर बैठ गये और बोले कि बुढ़िया माई तू प्रतिदिन निस्वार्थ भाव से मेरी पूजा करती हैं  जो चाहे सो मांग ले। बुढ़ियामाई  बोली हे विध्नहर्ता गणेश जी भगवान मुझेतो मांगना नहीं आता सो क्या मांगू। तब गणेशजी भगवान बोले कि माई मैं कल आऊंगा तू अपने बहू-बेटे से पूछ कर मांग ले।

तब बुढ़िया ने अपने बेटे बहूँ  से पूछा तो बेटा बोला कि धन मांग ले और बहू ने कहा कि माँ पोता मांग लो । तब बुढ़िया ने सोचा कि बेटा-बहू तो अपने-अपने मतलब की बातें कर रहे हैं।

अतः उस बुढ़िया ने पड़ोसिन  से पूछा तो पड़ोसिन  ने कहा कि बुढ़ियामाई  तेरी थोड़ी-सी जिंदगी बची है।तू  क्यों तो मांगे धन औरक्यों मांगे  पोता, तू तो केवल अपने आखे और गोढे  मांग ले, जिससे तेरा  जीवन  सुख से व्यतीत हो जाए। उस बुढ़ियामाई  ने बेटे, बहू तथा पड़ोसिन की बात सुनकर घर में जाकर सोचा, जिससे बेटा-बहू भी खुश हो जाये और मेरा भी भला हो वह भी मांग लूं ।

जब दूसरे दिन गणेशजी भगवान आए और बोले, बुढ़िया माई मांग ले  |गणेशजी  भगवान के वचन सुनकर बुढ़ियामाई  बोली हे विघ्नहर्ता ,  अन्न देवो , धन देवो , निरोगी काया देवों , अमर सुहाग देंवो , दीदा गोढा देवो , सोने के कटोरे में पोते को दूध पीता देखू , अमर सुहाग देवो  और समस्त परिवार को सुख देंवो आपको श्री चरणों में मुझे स्थान देवो |

बुढ़िया की बात सुनकर गणेशजी बोले- बुढ़िया मां तूने तो मुझे ठग लिया। और कहती हैं की  माँगना नहीं आता , जो कुछ तूने मांग लिया वह सभी तुझे मिलेगा। यूं कहकर गणेशजी भगवान अंतर्ध्यान हो गए।

हे गणेशजी भगवान जैसा  बुढ़िया माई  को दिया वैसा सबको देना , वैसे ही सबको देना और  सभी पर अपनी कृपा बनाये रखना।

अन्य समन्धित कथाये

कार्तिक स्नान की कहानी 2 

कार्तिक मास में राम लक्ष्मण की कहानी 

इल्ली घुण की कहानी 

तुलसी माता कि कहानी

पीपल पथवारी की कहानी

करवा चौथ व्रत की कहानी

आंवला नवमी व्रत विधि , व्रत कथा 

लपसी तपसी की कहानी 

देव अमावस्या , हरियाली अमावस्या

छोटी तीज , हरियाली तीज व्रत , व्रत कथा 

रक्षाबन्धन शुभ मुहूर्त , पूजा विधि 15 अगस्त 2019

कजली तीज व्रत विधि व्रत कथा 18 अगस्त 2019

भाद्रपद चतुर्थी व्रत कथा , व्रत विधि

नाग पंचमी व्रत कथा

हलधर षष्ठी व्रत विधि व्रत कथा [ उबछठ ]

जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत कथा

गोगा नवमी पूजन विधि , कथा

सोमवार व्रत की कथा

सोलह सोमवार व्रत कथा व्रत विधि

मंगला गौरी व्रत विधि , व्रत कथा

स्कन्द षष्टि व्रत कथा , पूजन विधि , महत्त्व

ललिता षष्टि व्रत पूजन विधि महत्त्व

कोकिला व्रत विधि , कथा , महत्त्व

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.