सप्तशती के कुछ सिद्ध सम्पुट – मन्त्र

Spread the love
  • 569
    Shares

Last updated on March 14th, 2018 at 04:41 pm

श्री मार्कडेयपुराण के अन्तर्गत देवी महात्म्य में ‘ श्लोक ‘ ‘ अर्ध श्लोक ‘ और  ‘ उचाव ‘ आदि मिलाकर 700 मन्त्र हैं | यह महात्म्य दुर्गा सप्तशती के नाम से प्रसिद्ध हैं | सप्तशती अर्थ , धर्म , काम , मोक्ष –चारों पुरषार्थ को प्रदान करने वाली हैं |

चैत्र नवरात्रि , नववर्ष का महत्त्व , व्रत विधि पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

माँ अम्बे जी की आरती पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

जों जिस भाव और जिस कामना से श्रद्धा एवं विधि के साथ सप्तशती का पारायण करता हैं , उसे उसी भावना और कामना के अनुसार निश्चय ही फल – सिद्धि होती हैं | जितने भी भक्त हैं जिन्होंने माता की आराधना की हैं उन्होंने प्रत्यक्ष अनुभव हुआ हैं | यहाँ अनगणित कामना सिद्धि मन्त्र का संग्रह दिया जा रहा हैं | कलयुग में इच्छा पूर्ति का अचूक उपाय हैं | इनमें अधिकांश मन्त्र दुर्गा सप्तशती के ही हैं –

  • विश्व की रक्षा के लिये ———-

या श्री: स्वयं सुक्रितिनाम भवनेवश्वल्क्ष्मी:

                         पापात्मनां कृतधियां हृदयेषु बुद्धि: |

श्रद्धा सता कुलजन प्रभवस्य लज्जा

               ताम त्वां नता: स्म परिपालय देवी विश्वम ||

  • भय के नाश के लिए —

  1. सर्व स्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्ति समन्विते |

      भयेभ्यंस्त्राहि नो देवी दुर्गे देवी नमोस्तुते ||

  1. एतेत्ते वन्दन सौम्यं लोचनत्रयभूषितम

पातु न: सर्वभितिभ्य: कात्यायनी नमोस्तुते ||

  • विपत्ति नाश के लिए –

शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायने       |

सर्वस्यातिहरे देवी नारायणी नमोस्तुते ||

  • रोग नाश के लिए –

रोगानशेषानपहसि तुष्टा

                रुष्टा तू कमान सकलान भिष्टान |

त्वामाश्रीतानां न विपन्नराणाम

                त्वामाश्रिता हव्याश्रयतां   प्रयान्ति ||

  • महामारी नाश के लिये

जयन्ती मंगला काली भद्रकाली क्पालनी |

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते ||

  • आरोग्य और सौभाग्य की प्राप्ति के लिए —-

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि यशो देहि दिव्षो जही ||

 रूपं देहि जयं देहि यशो देहि दिवषो जही ||

  • गुणवान पत्नी प्राप्ति के लिए

पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृतानुसारिणीम |

तारिणी दुर्गसंसारसागरस्य कुलोद्धवाम ||

  • प्रसन्नता प्राप्ति के लिए —

प्रणतानां प्रसिद त्वं देवी विश्वा तिर्हारिणी |

त्रेलोक्य वासिनामीडये लोकानां वरदा भव ||

  • सभी कामनाओ { इच्छा पूर्ति } कि प्राप्ति के                                       लिये –

सर्वमंगल मांगलेय  शिवे   सर्वार्थसाधिके |

शरण्ये त्र्यम्बके गौरी नारायणी नमोस्तु  ते ||

  • शुभ प्राप्ति के लिये –

करोतु सा न: शुभहेतुरिश्वरी

   शुभानि भद्राणयभिह्न्तु चापद: |

  • मोक्ष प्राप्ति के लिये –

त्वं वैष्णवी शक्तिरनन्तवियां

     विश्वस्य बीजं परमासि माया |

सम्मोहित देवि स्म्स्तमेतत

      त्वं वै प्रसन्ना भुवि मुक्ति हेतु: ||

  • रक्षा पाने के लिये —

शूलेन पाहि नो देवी पाहि खड्गेन चाम्बिके |

घंटास्वनेन न: पाहि चापज्यानि: स्वनेन च ||

                                                    || जय माता दी ||