मंगलवार व्रत की कथा , मंगलवार व्रत पूजन विधि || tuesday vrat ki kahani | vrat pujan vidhi

By | January 10, 2021
मंगलवार व्रत की कथा ||tuesday vrat ki kahani

 

मंगलवार व्रत की कथा ||tuesday vrat ki kahani

एक ब्राह्मण दम्पति के कोई सन्तान नहीं थी | इसलिए पति पत्नी दोनों बहुत दुखी रहते थे | पति भगवान बजरंग बलि की शरण में चला गया | बजरंग बलि की पूजा अर्चना करते हुए पुत्र प्राप्ति की कामना करता था | उसकी पत्नी भी पुत्र प्राप्ति  की कामना से मगंलवार का व्रत किया करती थी | मंगलवार के दिन व्रत के अन्त में भोजन बनाकर हनुमान जी को भोग लगाकर स्वयं भोजन करती थी | एक बार कोई व्रत आ गया जिसके कारण वह भोजन नहीं बना सकी | वह अपने मन में ऐसा प्रण करके सो गई की अब अगले मंगलवार को हनुमानजी को भोग लगाकर ही भोजन करूंगी | उसने हनुमान जी का ध्यान करते हुए छ: दिन निकल गये | मंगलवार के दिन उसको मूर्छा आ गई |हनुमान जी उसकी लग्न और निष्ठा को देखकर प्रसन्न हो गये | उन्होंने उसे  दर्शन दिए और बोले —- “ मैं तुमसे अत्यधिक प्रसन्न हु | मैं तुम्हे एक बालक देता हूँ , यह तुम्हारी बहुत सेवा करेगा | ” हनुमान जी मंगल को बाल रूप में देकर अंतर्ध्यान हो गये |

ब्राह्मणी पुत्र पाकर अत्यंत प्रसन्न हुई | उसका नाम मंगल रखा | कुछ समय पश्चात ब्राह्मण वापस लौट आया | उस अति सुन्दर मन को मोहित करने वाले बालक को देखकर ब्राह्मण ने अपनी पत्नी से पूछा – “ यह कौन हैं ? ” पत्नी ने कहा – “ मंगलवार के व्रत से प्रसन्न होकर यह बालक साक्षात् वीर हनुमान जी ने मुझे दिया हैं | पर ब्राह्मण [ पति ] को विश्वास नहीं हुआ | वह मन ही मन बालक से चिडने लगा | एक दिन ब्राह्मणी ने कहा इसको भी पानी लेने ले जावों | ब्राह्मण ले गया और कुवे ममें धक्का मार  दिया और स्वयं घर आ गया | ब्राह्मणी ने कहा मंगल कहा हैं ? और देखा मंगल उसके पीछे ही खड़ा | ब्राह्मण ने भगवान से मन ही मन पार्थना की की हे इश्वर ! मझे सच बताओ मैं अपनी पत्नी को दोषी मानने लगा हूँ | उसी रात्रि को भगवान ने उसे स्वप्न में आकर कहा – “ यह पूत्र  मैंने ही तुम्हे दिया हैं | ब्राह्मण सत्य जानकर अत्यंत प्रसन्न हुआ |

जों कोई भी व्रती इस व्रत को करता हैं | पूजन कीर्तन कथा विधिपूर्वक सुनता हैं या सुनाता हैं भगवान उसकी सभी मनोकामनाए पूर्ण करते हैं |  कथा पढने के बाद हनुमान चालिसा तथा हनुमान जी की आरती गायें |

 

                           मंगलवार व्रत  की विधि

 इस दिन प्रात: स्नानादि से निर्वत हो स्वच्छ वस्त्र धारण कर  लाल फूल , लाल वस्त्र , लाल चन्दन तथा लाल नैवैध्य का भोग लगाये | दिन में एक ही समय सूर्यास्त से पहले भोजन करें | हनुमानजी का भक्ति पूर्वक पूजन करे | हनुमानजी को लाल रंग अत्यधिक प्रिय हैं अत: आप स्वयं भी लाल वस्त्र धारण करे | 21 मंगलवारो का नियमित रूप से व्रत करे | तथा उस दिन मन ही मन हनुमानजी का ध्यान करते रहे किसी की निंदा न करे |

इस व्रत को करने से हनुमानजी की अशीम कृपा मिलती हैं | यह व्रत मान – सम्मान , बल , साहस और यश को बढ़ाने वाला हैं | सन्तान प्राप्ति के लिए यह व्रत बहुत लाभकारी हैं | दक्षिण मुखी हनुमान मन्दिर में सिंदूर चढाने से और हनुमान चालीसा  के पाठ करने से विशेष लाभ मिलता हैं |

अन्य व्रत त्यौहार कथाये

सोमवार व्रत कहानी 

मंगलवार व्रत की कहानी , व्रत विधि 

बुधवार व्रत की कहानी , व्रत विधि 

बृहस्पतिवार व्रत की कहानी 

शुक्रवार व्रत की कहानी 

शनिवार व्रत की कहानी 

रविवार व्रत की कहानी 

सोलह सोमवार व्रत की कहानी 

श्रावण सोमवार व्रत की कहानी 

पौष रविवार व्रत की कहानी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.