हरा रंग का धार्मिक महत्त्व | Importance of Green Colour

प्रकृति का रंग हरा 

सम्पूर्ण प्रकृति हरे रंग से रंगी हैं | पेड़ – पौधे , खेत खलिहान , बाग – बगीचे ,पर्वत पहाड़ सभी तरफ तो हरियाली हरियाली हैं | जब मनुष्य प्रकृति की गोद में होता हैं सबसे अधिक प्रसन्न , खुश शांत विचारशील होता हैं | कवि , लेखक अपनी रचनाये प्रकृति की गोद में बैठकर लिखते हैं | लाल रंग का धार्मिक महत्त्व |

सभी वैदिक , पौराणिक ग्रन्थो की रचना प्रकृति की गोद में हुई हैं | हमारे नेत्रों को अत्यंत प्रिय लगते हैं | यह नेत्र ज्योति बढ़ाने में मदद करता हैं | यह रंग सकारात्मक उर्जा प्रदान करने वाला हैं | मन को सुख शान्ति और शारीरिक रूप से स्फूर्ति प्रदान करने वाला हैं | रंगो का धार्मिक महत्त्व |

 भगवान की पूजा में भी हरे रंग का विशेष महत्त्व हैं | भगवान के वस्त्र लाल व हरे रंग के होते हैं | लाल और हरे रंग से माँ लक्ष्मी के वस्त्र बने होते हैं | हरा रंग स्फूर्ति प्रदान करने वाला , आत्मविश्वास को बढ़ाने वाला हैं | माँ लक्ष्मी का निवास मेहनती व प्रगति शील मनुष्यों के पास निवास करती हैं |

रंगो का धार्मिक महत्त्व यहाँ पढ़े 

सभी ऋषि मुनियों ने हिमालय की पहाडियों में घोर साधना कर प्रभु को प्रसन्न कर विभिन्न प्रकार की सिद्धिया प्राप्त की | मानसिक संतुलन , शांति और शीतलता प्रदान करने वाला हैं |

यह भी जाने :-

लाल रंग का धार्मिक महत्त्व 

रंगो का धार्मिक महत्त्व 

धर्म की परिभाषा 

लड्डू गोपाल जी की पूजा विधि

व्रत उपवास का महत्त्व

गाय का धार्मिक महत्त्व 

बारह ज्योतिर्लिंग दर्शन 

श्री शालग्राम भगवान पूजा का महत्त्व