भजन श्री राधे गोविन्द गोपाल | bhajan shree radhe govind gopal

Mata Yashoda Ke Dvara Shree Krishan Ko Uakhal Me Bandhne Ki Rochak Katha

भजन माला 

श्री  राधे गोविन्द गोपाल काट भव जाल गोवर्धन धारी |

मैं आई शरण तिहारी ||

मैं निश दिन तुम्हे जगाती हूँ और प्रेम से राधेनाम सुनती हूँ |

श्रे राधे गोविन्द गोपाल काट भव जाल गोवर्धन धारी |

मैं आई शरण तिहारी ||

मैं निशदिन तुम्हे निलाती हूँ और नित नये वस्त्र पहनाती हूँ |

श्रे राधे गोविन्द गोपाल काट भव जाल गोवर्धन धारी |

मैं आई शरण तिहारी ||

मैं निश दिन भोग बनाती  हूँ और प्रेम से भोग लगाती हूँ |

श्रे राधे गोविन्द गोपाल काट भव जाल गोवर्धन धारी |

मैं आई शरण तिहारी ||

मैं निशदिन तुम्हे सुलाती हूँ और प्रेम से लोरी  सुनाती हूँ |

श्रे राधे गोविन्द गोपाल काट भव जाल गोवर्धन धारी |

मैं आई शरण तिहारी ||

अन्य व्रत त्यौहार :-

तिल चौथ व्रत में सुनी जाने वाली पतिव्रता स्त्री की कहानी 

मंगलवार व्रत की कथा

भगवान कृष्ण के प्रसिद्ध मन्दिर 

श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत का महत्त्व 

राधा जी की आरती

आरती खाटू श्याम  जी की 

आरती गोवर्धन भगवान जी की 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top