स्वामी विवेकानन्द जयंती | Swami Vivekananda Jayanti

Spread the love
  • 155
    Shares

स्वामी विवेकानन्द जयंती पर विशेष   Swami Vivekananda Jayanti

नाम – नरेन्द्र दत्त

जन्म –  12 जनवरी सन 1883 में कलकत्ता के एक कायस्थ परिवार में

मृत्यु – 4 जुलाई 1902 उम्र 39 वर्ष

पिता – विश्वनाथ दत्त

माता – भुवनेश्वरी देवी

गुरु – श्री रामकृष्ण परमहंस

धर्म – हिन्दू

राष्ट्रीयता – भारतीय

शिक्षा – 1884 बी. ए . पास

हमारे आदर्श स्वामी विवेकानन्द जी

स्वामी विवेकानंदजी एक महान चिंतक , महान देशभक्त , दार्शनिक , युवा सन्यासी और आदर्श व्यक्तित्व के धनी थे | स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी सन 1883 में कलकत्ता के एक कायस्थ परिवार में हुआ था | इनके बचपन का नाम नरेन्द्र था | इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त तथा माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था | उनकी माता धर्मिक महिला थी | पूजा पाठ में उनकी विशेष रुचि थी | इनके पिता उच्च न्यायालय में वरिष्ठ वकील थे तथा माता धार्मिक महिला थी | नरेंद्र बचपन से ही तीक्ष्ण बुद्धि वाले थे | भारतीय नवजागरण के अग्रदूत स्वामी विवेकानन्द जी थे |

‘ उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाय ‘ का संदेश देने वाले समाज सुधारक युग पुरुष स्वामी विवेकानन्द जी के जन्म दिवस को राष्टीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता हैं |   

उठो मेरे शेरो , इस भ्रम को मिटा दो की तुम निर्बल हो , तुम एक अमर आत्मा हो , स्वच्छंद जीव हो , धन्य हो , सनातन हो , तुम तत्व नहीं हो , ना ही शरीर हो , तत्व तुम्हारा सेवक हैं तुम तत्व के सेवक नहीं हो |

एक शब्द में , यह आदर्श हैं की तुम परमात्मा हो |

जब तक आप खुद पर विश्वाश नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वाश नहीं कर सकते |

एक विचार लो उस विचार को अपना जीवन बना लो उसके बारे में सोचो उसके सपने देखो उस विचार को जियो अपने मस्तिष्क , मांसपेशियों , नशों , शरीर के हर हिस्से को उस विचार में डूब जाने दो और बाकी सभी विचार को किनारे रख दो यही सफल होने का तरीका हैं |

भला हम भगवान को खोजने कहाँ जा सकते  है अगर उसे अपने ह्रदय और हर एक जीवित प्राणी में नहीं देख सकते |

जब तक जीना तब तक सीखना , अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है |

विश्व एक व्ययाम शाला हैं जहां हम खुद को मजबूत बनाने आते हैं |

यदि स्वयं में विश्वास करना और अधिक विस्तार से पढ़ाया और अभ्यास कराया गया होता , तो मुझे यकीन हैं की बुराइयों और दुःख का एक बहुत बड़ा हिस्सा गायब हो गया होता |

यदि आपको यह लेख पंसद आया हैं तो इसे फेसबुक , ट्विटर , गूगल और व्हाट्सएप्प पर जरुर शेयर करे व कमेन्ट्स के माध्यम से अपने विचार व्यक्त करे |   

यह भी पढ़े

मकर संक्राति 14 जनवरी

लोकदेवता पाबूजी महाराज 

लोकदेवता गोगाजी महाराज 

लोकदेवता रामदेव जी महाराज 

धार्मिक कलेण्डर 2019 

सोमवती अमावस्या व्रत कथा , पूजन विधि 

पुत्रदा एकादशी व्रत कथा 

श्री सत्यनारायण पूर्णिमा व्रत कथा 

शनिवार व्रत कथा