Shree Ramavtar, Ram Stuti | रामावतार स्तोत्र राम अवतार स्तुति श्री रामावतार

Spread the love

Last updated on September 3rd, 2018 at 08:58 am

भये प्रकट कृपाला दीन दयाला कौसल्या हितकारी |

हरषित महतारी मुनि मन हारी अद्धुत रूप निहारी ||

लोचन अभिरामा तनु घनश्यामा निज आयुध भुज चारी |

भूषण बनमाला नयन बिसाला सोभा सिन्धु खरारी ||

कह दुई कर जोरी अस्तुति तोरी केही बिधि करों अनंता |

माया गुन ग्यानातीत अमाना वेद पुरान भनंता ||

करुना सुख सागर सब गुन आगर जेहि गावहिं श्रुति संता |

सो मम हित लागी जन अनुरागी भयऊ प्रगट श्रीकंता ||

ब्रह्मांड निकाया निर्मित माया रोम रोम प्रति बेद कहै |

मम उर सो बासी यह उपहासी सुनत धीर मति धीर न रहै ||

उपजा जब ग्याना प्रभु मुस्काना चरित बहुत बिधि कीन्ह चहै |

कहि कथा सुहाई मातु बुझाई जेहि प्रकार सुत प्रेम लहै ||

माता पुनि बोली सो मति डोली तजहु तात यह रूपा |

कीजै सिसुलीला अति प्रियसीला यह सुख परम अनूपा ||

सुनि बचन सुजाना रोदन ठाना होई बालक सुरभूपा |नं

यह चरित जे गावहिं हरिपद पावहिं ते न परहिं भवकूपा ||

|| जय श्री राम ||

अन्य आरतिया

 श्री हनुमान जी की आरती

आरती खाटूश्यामजी की 

श्री राम वन्दना 

गीत तुलसी माता का

आरती राधा राणी की 

आरती श्री मद् भगवद्गीता की 

आरती श्री अहोई माता  की 

आरती श्री पार्वती माता जी की