संकटमोचन हनुमानाष्टक Sankatmochan Hanumanashtak

By | March 29, 2018

संकटमोचन हनुमानाष्टक में वीर बजरंग बलि की महिमा का वर्णन किया गया है | बाल्यकाल से ही मेरे प्रभु ने बहुत चमत्कार किये हैं | उन्होंने सूर्य को लाल फल समझ कर खा लिया था पुरे जग में अँधेरा छाँ गया था ,  सभी देवताओने हनुमान जी से प्रार्थना करी की सूर्य को छोड़ दे और तीनो लोको की रक्षा करे , कौन नहीं जनता ऐसे कपि [ हनुमान जी भगवान ] को संसार में संकट मोचन आपका ही नाम हैं अर्थात विध्नो , कष्टों , बाधाओ को दुर करने वाला इसे प्रभु को मेरा बारम्बार प्रणाम |

संकटमोचन हनुमानाष्टक के नित्य पाठ करने से प्रभु सभी कष्टों को दुर कर जीवन में सुख़ – समृद्धि व लक्ष्मी चंचला होते हुये भी उस घर में हमेशा निवास करती हैं |

श्री हनुमान चालीसा के पाठ करने के लिए यहाँ क्लिक करे 

संकटमोचन हनुमानाष्टक

 sankat mochan hanuman aashtak

आरती श्री राम चन्द्र जी की पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

मत्तगयन्द छन्द

बाल समय रवि भक्षी लियो तब

तीनहूँ लोक भयो अँधियारो |

ताहि सों त्रास भयो जग को

यह संकट काहु सों जात न टारो ||

देवन आनि करी बिनती तब

छांडी दियो रवि कष्ट निवारो |

को नहीं जानत हैं जग में कपि

संकटमोचन नाम तिहारो || १ ||

बालि की त्रास कपीस बसई गिरी

जात महाप्रभु पंथ निहारो |

चौकी महामुनि शाप दियो तब

चाहिय कौन बिचार बिचारो ||

कैदिव्ज रूप लिवाय महाप्रभु

सो तुम दास के सोक निवारो || को० – २ ||

अंगद के संग लेन गये सिय

खोज कपीस यह बैन उचारो |

जीवत ना बचिहौ हम सो जु

बिना सुधि लाए इहाँ पगु धारो ||

हेरि थके तट सिंधु सबै तब लाय

सिया सुधि प्रान उबारो || को ० – ३ ||

रावण त्रास दई सिय को सब

राक्षसि सों कही सोक निवारो |

ताहि समय हनुमान महाप्रभु

जाय महा रजनीचर मारो ||

चाहत सीय असोक सों आगि सु

दै प्रभु मुद्रिका सोक निवारो || को ० – ४ ||

बान लग्यो उर लछिमन के तब

प्रान तजे सुत रावन मारो |

लै गृह बैध सुषेन समेत

तबै गिरि द्रोन सु बीर उपारो ||

आनि सजीवन हाथ दई तब

लछिमन के तुम प्रान उबारो || को ० – ५ ||

रावन जुद्ध अजान कियो तब

नाग की फाँस सबै सिर डारो |

रघुनाथ समेत सबै दल

मोह भयो यह संकट भारो ||

आनि खगेस तबै हनुमान जु

बंधन काटी सुत्रास निवारो || को ० – ६ ||

बंधु समेत जबै अहिरावन

लै रघुनाथ पताल सिधारो |

देबिहि पूजि भली बिधि सों बलि

देउ सबै मिलि मंत्र बिचारो ||

जाय सहाय भयो तब ही

अहिरावन सैन्य समेत संहारो || को ० – ७ ||

काज किये बड देवन के तुम

 बीर महाप्रभु देखि बिचारो |

कौन सु संकट मोर गरीब को

जों तुमसों नहीं जात है टारो ||

बेगि हरो हनुमान महाप्रभु

जों कछु संकट होय हमारो || को ० – ८ ||

दोहा

लाल देह लाली लसे , अरु धरि लाल लंगूर |

बज्र देह दानव दलन , जय जय जय कपि सूर ||

|| इति संकटमोचन हनुमानष्टक सम्पूर्ण ||

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.