पौष अमावस्या व्रत पितृ पूजन का धार्मिक महत्त्व | Paush Amavasya Ka Dharmik Mahattv

Spread the love
  • 17
    Shares

Last updated on January 4th, 2019 at 01:44 pm

पौष अमावस्या व्रत पितृ पूजन का धार्मिक महत्त्व

पौष माह में आने के कारण इस अमावस्या को पौषी अमावस्या के नाम से जाना जाता हैं | पौष माह धार्मिक कर्मो के लिए श्रेष्ठ हैं | पितृ तर्पण , पूजन का विशेष महत्त्व हैं | पौषी अमावस्या पितृ दोष निवारण और काल सर्प दोष के निवारण के लिए श्रेष्ठ हैं |

 महत्त्वपूर्ण हैं पितरो को धन से नहीं केवल श्रद्धा पूर्वक किये पूजन से प्रसन्न किया जाता हैं | पौषी अमावस्या का दिन व्रत , तर्पण ,पूजन के लिए श्रेष्ठ हैं |

पौष अमावस्या के दिन किसी तीर्थ स्थान पर पितृ तर्पण कर ब्राह्मण भोजन करवाने से पितृ प्रसन्न होते हैं |

इस दिन “ ॐ नमो भगवते वासुदेवाय “ मन्त्र का जप करने मात्र से ही पितृ प्रसन्न होते हैं |

पितृ दोष निवारण के लिए   ” ॐ पितृ देवयो नम :’ मन्त्र का जप करे |

इस दिन तामसिक वस्तुओ का सेवन कदापि नहीं करे |

इस दिन बहन , भांजी , भांजा को भोजन करवाए और दक्षिणा देने से पितरो की आत्मा को शांति प्राप्त होती हैं तथा पितृ दोष निवारण हो जाता हैं |

पितृ तर्पण से बढकर और कोई कल्याणकारी कार्य नहीं हैं और वंश वृद्धि के लिए पितरो की आराधना की एकमात्र उपाय हैं |

इस दिन पितृ पूजन करने व्रत करने गृह क्लेश का नाश हो परिवार में सुख शांति , वंश वृद्धि , अन्न धन के भंडार सदैव भरे रहते हैं |

पराई निंदा , चोरी , झूठ बोलना , तामसिक भोजन , नशा आदि कृत्य इस दिन सर्वथा वर्जित हैं |

मन ही मन इस दिन “ ॐ पितृ देवाय नम: “ इस मन्त्र का जप करे किसी द्वार पर आये याचक को भूखा नहीं जाने दे |

व्रत त्यौहार की जानकारी के लिए यहाँ देखे :-

धार्मिक कलेण्डर 2019 

सोमवती अमावस्या व्रत कथा , पूजन विधि 

पुत्रदा एकादशी व्रत कथा 

श्री सत्यनारायण पूर्णिमा व्रत कथा 

शनिवार व्रत कथा