गणेशजी एवं माँ भगवती पूजन के लिए विहित पुष्प एवं निषिद्ध पुष्प | Ganesh Ji , Maa Bhgvti Ko Priy Puashp

Spread the love
  • 235
    Shares

गणेशजी एवं माँ भगवती पूजन के लिए विहित पुष्प एवं निषिद्ध पुष्प

भगवान गणेश

प्रथम पूज्य एकदन्त भगवान गणेश जी की पूजा सभी शुभ कार्यो में सर्वप्रथम की जाती हैं | गणेशजी भगवान को दूर्वा अत्यंत प्रिय हैं | अत: इन्हे हरी दूर्वा व गुड अवश्य चढ़ाना चाहिए | दूर्वा ताजा व तीन या पांच पत्ती होनी आवश्यक हैं | गणेश जी भगवान को लाल रंग के गुडहल पुष्प , लाल रंग के गुलाब  भी अत्यंत प्रिय हैं |

भगवान गणेश जी पर तुलसी कभी न चढाये | पद्धम पुराण के अनुसार :–

“ न तुलस्या गणाधिपम “

अर्थात् तुलसी से गणेशजी की पूजा वर्जित है

गणेश जी भगवान को मोदक अति प्रिय हैं |

माँ भगवती

माँ भगवती को प्रसन्न करने के लिए पूजा में उनके प्रिय पुष्प चढाये व इनकी पूजा श्रद्धा व भक्ति से करे |

माँ भगवती गौरी को लाल पुष्प अत्यंत प्रिय हैं | जितने भी सुगन्धित सफेद व् लाल पुष्प हैं माँ भगवती को विशेष प्रिय हैं |

बेला , चमेली , केसर , कमल , पलाश , अशोक , शंखपुष्पी आदि फूल माँ भगवती को प्रिय हैं |

“ देविनामकर्मन्दारो ………………… वर्जयेत “ अर्थात शास्त्रों में वर्जित हैं |

 

माँ भगवती पर आक , मदार की तरह दूर्वा , तिलक , मालती , तुलसी ये निषिद्ध हैं |