Category: चालीसा संग्रह

शिव ताण्डव स्तोत्र [रावण द्वारा विरचित भगवान शिव की स्तुति] Shiv Tanadv Stotram

अत्यंत कल्याणकारी चमत्कारी शिव तांडव स्तोत्र   परम शिवभक्त लंकाधिपति रावण द्वारा रचित हैं  |शिव तांडव स्तोत्र भगवान शिव को समर्पित हैं | ये भगवान शिव के परम भक्त लंकापति रावण द्वारा की गई विशेष स्तुति हैं | शिव तांडव स्तोत्र से स्तुति कर लंकापति रावण ने भगवान शिव को प्रसन्न किया था | शिव तांडव […]

शिवाष्टकं स्तोत्र | Shivashtakam Stotra

शिवाष्टकं स्तोत्र  Shivashtakam Stotra प्रभुं प्राणनाथं विभुं विश्वनाथं जगन्नाथ नाथं सदानन्द भाजाम् । भवद्भव्य भूतेश्वरं भूतनाथं, शिवं शङ्करं शम्भु मीशानमीडे ॥ 1 ॥   गले रुण्डमालं तनौ सर्पजालं महाकाल कालं गणेशादि पालम् । जटाजूट गङ्गोत्तरङ्गै र्विशालं, शिवं शङ्करं शम्भु मीशानमीडे ॥ 2॥ मुदामाकरं मण्डनं मण्डयन्तं महा मण्डलं भस्म भूषाधरं तम् । अनादिं ह्यपारं महा मोहमारं, […]

भैरव चालीसा | Bhairav Chalisa

भैरव चालीसा दोहा श्री गणपति गुरु गौरी पद प्रेम सहित धरि माथ | चालीसा वन्दन करो श्री शिव भैरवनाथ || श्री भैरव संकट हरण मंगल करण कृपाल | श्याम वरण विकराल वपु लोचन लाल विशाल || जय जय श्री काली के लाला | जयति जयति काशी कुतवाला || जयति बटुक भैरव भी हारी | जयति […]

श्री संतोषी माता की चालीसा | Shree Santoshi Mata Ki Chalisa

श्री संतोषी माता की चालीसा दोहा बन्दौ सन्तोषी चरण रिद्धि सिद्धि दातार | ध्यान धरत ही होत नर दुःख सागर से पार || भक्तन को सन्तोष दे सन्तोषी तव नाम | कृपा करहु जगदम्ब अब आया तेरे धाम || जयं सन्तोषी माता अनुपम शान्ति दायनी रूप मनोरम || सुन्दर चरण चतुर्भुज रूपा | वेश मनोहर […]

श्री शनि देव चालीसा | Shree Shani Dev Chalisa

भगवान शनि देव के मन्त्र : — ॐ शं शनैस्र्च्राय नम: ॐ भगभवाय विद्मेह मृत्युरूपाय धीमहि तन्नो शनि प्रचोदयात , ॐ सूर्य पुत्राय नम:       श्री शनि देव चालीसा | Shree Shani Dev Chalisa  || स्तुति ||  ॐ शन्नो देवीरभिष्टय आहो भवन्तु पीतये | शं योरभि: स्त्रवन्तु न: ||   जय गणेश गिरिजा सुवन , मंगल […]

श्री पार्वती चालीसा |Shree Parvati Chalisa

माँ पार्वती चलीसा के  नित्य पाठ  करने से घर में सुख शांति बनी रहती हैं |आदि शक्ति माँ पार्वती , माँ दुर्गा ,  माँ काली , अन्नपूर्णा , गौरी ये सभी माँ पार्वती के ही रूप हैं |भक्तो पर करुणामयी माँ पार्वती अति शीघ्र प्रसन्न हो जाती हैं | आदिशक्ति माँ पार्वती की आराधना से […]

श्री गणेश चालीसा | Shree Ganesh Chalisa

श्री गणेश चालीसा || दोहा || जय गणपति सद्गुण सदन , करि वर बदन कृपाल | विघ्न हरण मंगल करण , जय जय गिरिजालाल || || चौपाई || जय जय गणपति गणराजू | मंगल भरण करण शुभ काजू || जब गज वन्दन सदन सुख दाता | विश्व विनायक बुद्धि विधाता || वक्र तुंड शुचि शुण्ड […]

संकटमोचन हनुमानाष्टक Sankatmochan Hanumanashtak

संकटमोचन हनुमानाष्टक में वीर बजरंग बलि की महिमा का वर्णन किया गया है | बाल्यकाल से ही मेरे प्रभु ने बहुत चमत्कार किये हैं | उन्होंने सूर्य को लाल फल समझ कर खा लिया था पुरे जग में अँधेरा छाँ गया था ,  सभी देवताओने हनुमान जी से प्रार्थना करी की सूर्य को छोड़ दे […]

श्री हनुमान चालीसा | Shree Hanuman chalisa

श्री हनुमान चालीसा तुलसीदास  जी की अवधि में लिखी एक काव्यात्मक कृति हैं | जिसमें श्री राम के निराले भक्त हनुमान जी भगवान के गुणों व कार्यो का चालीस चौपाईयो में वर्णन किया गया हैं |  यत्र      यत्र      रघुनाथकीर्तनं          तत्र तत्र कृतमस्त कान्जलिम | वाष्पवारिपरिपूर्णलोचनं          मारुति नमत राक्षसान्तकम ||   श्री हनुमान चालीसा […]

|| शिव चालीसा || || Shiv Chalisa ||

कपूरगौरं  करुणावतारं  संसारसारं  भुजगेन्द्रहारं | सदा वसन्तं हृद्यारविन्दे भवं भवामीसहितं नमामि |  || शिव चालीसा || दोहा – जय गणेश गिरजा सुवन , मंगल मूल सुजान |       कहत अयोध्यादास अब , देउ अभय वरदान || शिवजी की आरती पढने के लिए यहाँ क्लिक करे     चौपाई जय गिरजा पति दीन दयाला | सदा करत […]

Back To Top