Category: कथाये

द्वादशज्योतिर्लिंग | बारह ज्योर्तिर्लिंग | भगवान शिव के दिव्य दर्शन | BHAGWAN SHIV KE DIVY DARSHAN | BARAH JYOTIRLING

द्वादशज्योतिर्लिंग | बारह ज्योर्तिर्लिंग | भगवान शिव के दिव्य दर्शन | BHAGWAN SHIV KE DIVY DARSHAN | BARAH JYOTIRLING भगवान शिव परात्पर ब्रह्म हैं | उनका देव स्वरूप सभी के लिए वन्दनीय हैं | शिव पुराण के अनुसार सभी प्राणियों के कल्याण के लिये भगवान शंकर लिंगरूप में विविध तीर्थों में निवास करते हैं | […]

हनुमान जी भगवान वीर बजरंग बलि का सिंदूर प्रेम |HANUMAN JI BHGWAN VEER BAJRANG BALI KA SINDUR PREM

हनुमान जी भगवान वीर बजरंग बलि का सिंदूर प्रेम |HANUMAN JI BHGWAN VEER BAJRANG BALI KA SINDUR PREM श्री हनुमान की आराधना भारतवर्ष में बजरंगबलि जय हनुमान जी की पूजा उपासना हर घर में बड़े व्यापक रूप से की जाती हैं | वे सभी मंगल और मोदों के मूल कारण , संसार के भार को […]

शुक्रवार की आरती

ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नम: इस मन्त्र का 108 बार जप करें | आरती लक्ष्मण बलजीत की || असुर संहारण प्राण पति की || जग भग ज्योति अवधपुरी राजे || शेषाचल पे आप विराजे || तिन लोक जाकी शोभा राजे || कंचन थार कपूर सुहाई | आरती करत सुमित्रा माई || आरती कीजै हरी की […]

विनायक शान्ति व्रत | VINAYAK SHANTI VRAT

विनायक शान्ति व्रत | VINAYAK SHANTI VRAT विनायक शान्ति व्रत विधि – विनायक – शान्ति व्रत  करने से सभी मानव समस्त आपतियों से मुक्त हो जाते हैं | इसके आचरण से सभी अरिष्ट नष्ट हो जाते हैं | यह विनायक – शान्ति सम्पूर्ण विघ्नों को दुर करने के लिये की जाती हैं | बिना किसी […]

बुधाष्टमी व्रत विधि, बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य | Budhashtmi Vrat Ki Vidhi

बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य Budhashtmi-vrat Ki Vidhi भगवान श्री कृष्ण बोले — अब में बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य [ विधान ] बतलाता हूँ , जिसे करने वाला कभी नरक  का मुहँ नही देखता | जब जब शुक्ल पक्ष की अष्टमी को बुधवार पड़े तो उस दिन यह व्रत करना चाहिए | पूर्वाह में नदी आदि […]

Back To Top