कथाये

317   Articles
317
0

चिड़ा चिड़ि की कहानी | chida chidi ki kahani एक गरीब बुढ़िया माई कार्तिक स्नान करती व्रत करती उसके घर में खाने को भी नही था | इसलिए भगवान कृषण एक कटोरा खिचड़ी…

Continue Reading
0

    ॥ श्री कनकधारा स्त्रोत ॥ अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती भृङ्गाङ्गनेव मुकुलाभरणं तमालम् । अङ्गीकृताखिलविभूतिरपाङ्गलीला माङ्गल्यदास्तु मम मङ्गलदेवतायाः ॥१॥ मुग्धा मुहुर्विदधती वदने मुरारेः प्रेमत्रपाप्रणिहितानि गतागतानि । माला दृशोर्मधुकरीव महोत्पले या सा मे श्रियं…

Continue Reading
0

गौमाता का महिमा एक बार नारदजीने ब्रह्माजीसे पूछा- नाथ! आपने बताया है कि ब्राह्मणकी उत्पत्ति भगवान्‌के मुखसे हुई है; फिर गौओंकी उससे तुलना कैसे हो सकती है? विधाता! इस विषयको लेकर मुझे बड़ा…

Continue Reading
0

    अम्बाष्टक स्तोत्रम् – श्रीमदाद्यशङ्कराचार्यविरचितम (हिंदी भावार्थ सहित) चेटीभवन्निखिलखेटी कदम्बतरुवाटीषु नाकिपटली- कोटीरंचारुतरकोटीमणीकिरणकोटीकरम्बितपदा। पाटीरगन्धकुचशाटी कवित्वपरिपाटीमगाधिपसुता घोटीकुलादधिकधाटीमुदारमुखवीटीरसेन तनुताम्॥१॥ विद्याधरी आदि समस्तगगनचारिणीदेवियां दासी के रूप में जिन की सेवा करती है; अपने निवासस्थान कदम्बवन में…

Continue Reading
0

*🌙⚫ चंद्र – ग्रहण 🌙⚫* *28 अक्टूबर 2023 शनिवार 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ चंद्रग्रहण सिर्फ और सिर्फ वैज्ञानिक दृष्टि से ही नहीं बल्कि धार्मिक दृष्टि से भी बेहद महत्वपूर्ण घटना है। साल का अंतिम चंद्रग्रहण शरद…

Continue Reading
0

      “धर्मो रक्षति रक्षितः।इतिमनुः” जो मनुष्य धर्म का अतिक्रमण करता है या जो धर्म को नष्ट करना चाहता है, वो धर्म द्वारा ही अपने आप नष्ट हो जाता है। धर्म की…

Continue Reading
0

    दुर्गा जी का बीज मंत्र क्या है?   मां कूष्मांडा बीज मंत्र: ऐं ह्री देव्यै नम:। या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण संस्थिता।

Continue Reading
0

पितृ पक्ष 2023 इस दिन से शरू हो रहे हैं जाने डेट , श्राद्ध की तिथिया , वार , दिनांक – पूर्णिमा श्राद्ध तिथि  2023 –  29 सितम्बर 2023 शुक्रवार  प्रतिपदा श्राद्ध तिथि…

Continue Reading
0

  श्रीशिवप्रातः स्मरण स्मरामि भवभीतिहरं सुरेशं खड्गाङ्गशूलवरदाभयहस्तमीशं जो सांसारिक भयको हरनेवाले और देवताओंके स्वामी हैं, जो गङ्गाजीको धारण करते हैं, जिनका वृषभ वाहन है, जो अम्बिकाके ईश हैं तथा जिनके हाथमें खड्डाङ्ग, त्रिशूल…

Continue Reading
0

बिल्वपत्र तोड़नेका मन्त्र अमृतोद्भव श्रीवृक्ष महादेवप्रियः सदा । गृह्णामि तव पत्राणि शिवपूजार्थमादरात् ॥ बिल्वपत्र तोड़नेका निषिद्ध काल- -चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी और अमावास्या तिथियोंको, संक्रान्तिके समय और सोमवारको बिल्वपत्र नहीं  तोड़े’, किंतु बिल्वपत्र…

Continue Reading