Category: कथाये

Karpura Gauram Karuna Avataram) कर्पूरगौरं करुणावतारं,

Karpura Gauram Karuna Avataram कर्पूरगौरं करुणावतारं, कर्पूरगौरं करुणावतारं, संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम्। सदावसन्तं हृदयारविन्दे, भवं भवानीसहितं नमामि॥ इस मन्त्र में देवादिदेव भगवान भोल नाथ की स्तुति की गई हैं इसका अभिप्राय यह हैं की कर्पूरगौरं – भगवान भोलेनाथ गौरवर्ण वाले , करुणावतारं – करुणानिधि करुणा के सागर हैं , संसारसारम् सम्पूर्ण सृष्टि के सार हैं भुजगेन्द्हारम्- शेषनाग […]

दशामाता व्रत की कहानी , पूजा व्रत विधि 2021 , | Dashamata Vart ki kahani , puja Vidhi 2021

दशामाता व्रत की कहानी , पूजा विधि 06 अप्रैल 2021 दशा माता व्रत की पूजा विधि =  चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की दशमी को दशामाता का पूजन एवं व्रत करते हैं | होली के दुसरे दिन से ही दशामाता का पूजन एवं कहानी पुरे दस दिन सुनी जाती हैं | प्रतिदिन प्रात: स्त्रियाँ स्नानादि […]

दशावतार व्रत कथा , दशावतार व्रत विधान और फल | dshavtar-vrt-katha-phal-aur-vidhan

दशावतार – व्रत कथा , विधान और फल भगवान श्री कृषण कहते हैं —- राजन ! सतयुग के प्रारम्भ में भृगु नाम के एक ऋषि हुए थे | उनकी भार्या दिव्या अत्यंत पतिव्रता थीं | वे आश्रम की शोभा थी और निरन्तर ग्रहकार्य में सलग्न रहती थी | वे महऋषि भृगु की आज्ञा का पालन […]

विजया सप्तमी व्रत का महत्त्व , व्रत की विधि | Vijaya Saptmi Vrat Ka Mahattv , Vrat Ki Vidhi

विजया सप्तमी व्रत का महत्त्व , व्रत की विधि विजया सप्तमी व्रत किसी भी मास में शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को जिस दिन रविवार हो किया जाता हैं | इस व्रत में भगवान सूर्य की पूजा अर्चना की जाती हैं | यह व्रत पुत्र प्राप्ति तथा किसी भी कार्य में विजय प्राप्ति के लिए […]

प्रदोष व्रत कथा | प्रदोष व्रत की महिमा | PRADOSH VRAT KATHA PRADOS VRAT KI MAHIMA

प्रदोष व्रत कथा | प्रदोष व्रत की महिमा PRADOSH VRAT KATHA PRADOS VRAT KI MAHIMA  शिव और उनका नाम समस्त संसार के मंगलो का मूल हैं | शिव , शम्भु और शंकर – ये तिन उनके मुख्य नाम हैं और तीनों का अर्थ हैं — सम्पूर्ण रूपसे कल्यानमय मंगलमय और परम् शान्तमय | शिवोपासना के […]

पौष रविवार की कहानी , सूर्य पूजा की कहानी ,मल मास [ पौष ] का महत्त्व | poush -ravivar-ki-kahani-katha

पौष रविवार व्रत का महत्त्व , व्रत कथा मल मास एक माह तक रहता हैं | ये पौष मास में प्रारम्भ होते हैं | मल मास में समस्त शुभ कार्य वर्जित होते हैं | परन्तु इस समय अपने इष्ट देव की आराधना व दान पुण्य का विशेष महत्त्व हैं | इस मास में किये गये […]

तिल चौथ व्रत की कथा | माघी चौथ व्रत कीकहानी | व्रत पूजन विधि | तारीख 2022 | Til Chauth vrat ki kahani , Sankat Chturthi Vrat Katha 2022

like, share , subscribe and comment तिल चौथ व्रत की कथा { माघी चौथ } व्रत की विधि , व्रत कहानी , उद्यापन विधि 2022  | Til Chauth , Sankat Chturthi Vrat Katha 2022  तिल चौथ व्रत माघ मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को किया जाता हैं | इस वर्ष तिल चौथ21    जनवरी […]

Mauni Amavasya 2021 || मौनी अमावस्या, शुभ मुहूर्त, महत्व, व्रत नियम और पौराणिक कथा

 Mauni Amavasya 2021मौनी अमावस्या, शुभ मुहूर्त, महत्व, व्रत नियम और पौराणिक कथा माघ माह में आने के कारण इस अमावस्या को मौनी अमावस्या के नाम से जाना जाता हैं | इस मोनी अमावस्या को पवित्र संगम और तीर्थ स्थानों पर स्नान करने का विशेष महत्त्व हैं | क्यों की वहा देवी देवताओ का निवास […]

दशहरे का महत्त्व [ विजय दशमी पर्व ] 2021 | Dussehra Parav [ Vijay Dashmi Parav2021

असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक दशहरा शुक्रवार 15 अक्टूबर 2021  को हिन्दुओं का प्रमुख त्यौहार दशहरा हैं | भगवान राम की विजय की साक्षी  आश्विन मास शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता हैं | असत्य पर सत्य की बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व हैं दशहरा | इस दिन शस्त्र […]

होली 2021 , होलिका दहन समय , मुहूर्त, पुजा विधि एवं होलिका प्रहलाद की कहानी |Holi 2021 -Holika Dahan Time ‘ Muhurt , Puja Vidhi , Kahani 2021

  होली फाल्गुन मास की पूर्णिमा रविवार दिनांक 28 मार्च 2021 होली फाल्गुन मास की पूर्णिमा रविवार दिनांक 28 मार्च 2021  को  प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा होने के कारण इसी दिन होली का त्यौहार हैं | इस दिन होलिका तथा प्रहलाद की पूजा की जाती हैं , पूजा के पश्चात होलिका दहन किया जाता हैं | […]

Back To Top