sukhiyaa amavsyaa ki kahani | सुखिया अमावस्या की कहानी

सुखिया अमावस्या की कहानी
  • सुखिया अमावस्या व्रत का महत्त्व 

  • जिस दिन अमावस्या तिथि हो उसे सुखिया  अमावस्या कहते हैं | इस दिन पितरो का तर्पण कर दान पुण्य का विशेष महत्त्व हैं | इस दिन पीपल के पेड़ की पूजा व 108 परिक्रमा करना चाहिए |इस दिन परिक्रमा में पैसा , फल , मिठाई आदि चढ़ानी चाहिए |  बच्चो को फल तथा मिठाई बाटने से विशेष फल मिलता हैं | इस दिन का शास्त्रों में विशेष महत्व हैं | इस व्रत को सुहागिन स्त्रिया अपने पति व पुत्र की दीर्घायु के लिए व अखंड सौभाग्य के लिए करती हैं |
  • सुखिया  अमावस्या की कहानी

  • एक साहूकार था | उसके सात बेटे बहु व एक बेटी थी | उसके घर एक जोगी भिक्षा लेने आता जब बहुए भिक्षा देती तो वह ले लेता और जब बेटी देती तो जोगी भिक्षा नही लेता और बोलता “ बेटी सुहागन तो हैं , पर इसके भाग्य में दुःख लिखा हैं |” ऐसा सुनकर बेटी दुबली होने लगी तो बेटी की माँ ने बेटी से पूछा , तू क्यों सुख़ रही हैं ? बेटी की माँ ने जोगी वाली बात बताई |

    दुसरे दिन माँ ने छुपकर जोगी की बात सुन ली और जोगी के पावं पकड़ लिए और कहा की आप ही कुछ इसका उपाय बता सकते हैं की इसके भाग्य में क्या लिखा हैं , इसका उपाय बताओं | जोगी ने कहा की सात समुन्द्र पार एक सोमा  धोबन रहती हैं | वह प्रत्येक माह सुखिया अमावस्या का व्रत करती हैं यदि वह इसका फल इसको दे दे तो इसके भाग्य में लिखे दुःख टल जायेगे |

    उसकी माँ सोम  धोबन की तलाश में सात समुन्द्र पार सोमा धोबन को ढूढने चली गई |रास्ते में पीपल के पेड़ के नीचे विश्राम करने लगी तो देखा एक सापं गरुड पक्षी के बच्चो को खा जायेगा तो उसने साप  को मार दिया | इतने में गरुड पक्षी का जौड़ा उड़ता उड़ता आकाश से आया और चोच मरने लगा तो वो बोली “ मैने तो तेरे बच्चो को बचाया हैं , तेरा गुनहगार मरा पड़ा हैं |” गरुड बोला जों मांगना हैं मांग सो मांग |

    लडकी की माँ बोली मुझे सात समुन्द्र पार पहुचा दो | गरुड ने उसे सोमा  धोबन के घर के पास उसको छोड़ दिया |वहाँ सोमा  धोबन के सात बहु व बेटे थे | बहुए काम करते हुए लडती थी | सोमा धोबन को खुश करने के लिए सारा काम सबके उठने से पहले कर देती | सब सोचने लगे की यह काम कौन करता हैं | सोमा  धोबन ने सोचा सारा काम कोनसी बहु करती हैं देखना चाहिए | “  चुपचाप आँख बंद करके सो गई तो देखा एक ओरत आई और सारा काम करके जाने लगी |

  • सोमा  धोबन ने उसको रोक कर पूछा – तू किस स्वार्थ से हमारे घर का काम करती हैं | साहुकारनी  बोली – मेरी बेटी को आप अपना सुखिया अमावस्या का पुण्य दे दे और सारी बात बताई | धोबन तैयार हो गई | अपने घर वालो को बोल दिया की मेरे आने तक किसी को भी घर के बाहर न जाने देना| साहुकारनी के साथ सोमा  धोबन उसके घर आ गई | बेटी के ब्याह की तैयारी करी | दूल्हा दुल्हन फेरे में बैठे | दूल्हा के पास सोमा  धोबन , मिट्टी की हांड़ी कच्चा दूध , कच्चा सूत लेकर बैठी | इतने में दुल्हे को डसने के लिए साँप आया |

    सोमा धोबन ने उसे हांड़ी में डाला और कच्चे सूत से हांड़ी बांध दी तो ब्राह्मण  बोला दूल्हा तो डर के मारे मर गया | तू उसे जीवन दान दे | सोमा  धोबन ने उसके ऊपर कच्चे छीटे दिए और कहा आज तक जितनी सुखिया अमावस्या करी उसका पुण्य साहूकार की बेटी को लगना और जों सुखिया अमावस्या करूं उसका पुण्य साहूकार की बेटी को लगना और आगे जों सुखिया अमावस्या करूं उसका फल मेरे पति को लगना | इतना बोलते ही दूल्हा उठ गया | काम पूरा हुआ , वो अपने घर जाने लगी तो साहुकारनी बोली  मैं आपको क्या दू तब सोमा  धोबन बोली मुझे क्या चाहिए , बस एक मिट्टी की हांड़ी दे दे | रास्ते में सुखिया अमावस्या आई | उसने हांड़ी के 108 टुकड़े कर पीपल के नीचे रखे | 13 टुकड़े एक जगह रखे व पीपल के 108 परिक्रमा दी और टुकड़े पीपल में गाड़ दिये , घर जाने लगी | घर आई तो उसका पति मरा पड़ा था |

    उसने पति पर सुहाग का छीटा दिया और कहा मेरी सुखिया अमावस्या का फल मेरे पति को मिले | ऐसा कहते ही उसका पति जीवित हो गया | एक ब्राह्मण आया और बोला सुखिया अमावस्या का जों किया हो वो दान दो | सोम  धोबन बोली रास्ते में अमावस्या आई कुछ नही कर पाई और जों किया वो पीपल के नीचे गाड़ दिया | ब्राह्मण ने जगह खोदी तो पाया की वहाँ 108 व 13 सोने के टुकड़े रखे हैं | इकट्टे करके वो घर आया , और धोबन से बोला इतना धर्म किया और कहती कुछ न किया | सोमा  धोबन बोली ये सब तुम्हारे भाग का हैं आप ले आवो |

  • ब्राह्मण बोला मेरा तो चौथा हिस्सा ही हैं | बाकि तिन हिस्सा आप की इच्छा हो उसको देना |  सोमा धोबन ने पाठशाला , प्याऊ , धर्मशाला , कुए , बावडिया बनवाने में लगा दिया |ब्राह्मण ने नगर में ढिढोरा पिटा दिया , सब जन सुखिया अमावस्या का व्रत करे | हे सुखिया अमावस्या माता साहूकार की बेटी को दिया वैसा अमर सुहाग सबको देना ||| जय बोलो सुखिया अमावस्या की जय ||                         ||ॐ पितृ देव्य नम: 
  • अन्य समन्धित पोस्ट
  • दशा माता की कहानी 
  • शीतला माता की कहानी
  • करवा चौथ व्रत की कहानी 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top