Category: कथाये

आशादशमी व्रत कथा एवं व्रत विधि

प्राचीन काल में निषद देश में नल नाम के एक राजा थे | उनके भाई घुत में जब उन्हें पराजित के दिया , तब नल अपनी भार्या दमयन्ती के साथ राज्य से बाहर चले गये | वे प्रतिदिन एक वन से दुसरे वन में भ्रमण करते रहते थे , केवल जल मात्र से ही अपना […]

वैभवलक्ष्मी व्रत कथा [शुक्रवार को किया जाने वाला व्रत ]

माँ लक्ष्मीदेवी को प्रसन्न करने वाला अदभुत चमत्कारिक सुख़ , सम्पति और शान्ति देने वाला  वैभव लक्ष्मी व्रत यह व्रत शीघ्र फल दाई हैं | किन्तु फल न मिले तो तिन माह के बाद इस व्रत को फिर से शुरू करना चाहिये और जब तक मनवांछित फल न मिले तब तक यह व्रत तीन  तीन […]

शुक्रवार की आरती

ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नम: इस मन्त्र का 108 बार जप करें | आरती लक्ष्मण बलजीत की || असुर संहारण प्राण पति की || जग भग ज्योति अवधपुरी राजे || शेषाचल पे आप विराजे || तिन लोक जाकी शोभा राजे || कंचन थार कपूर सुहाई | आरती करत सुमित्रा माई || आरती कीजै हरी की […]

विनायक शान्ति व्रत | VINAYAK SHANTI VRAT

विनायक शान्ति व्रत | VINAYAK SHANTI VRAT विनायक शान्ति व्रत विधि – विनायक – शान्ति व्रत  करने से सभी मानव समस्त आपतियों से मुक्त हो जाते हैं | इसके आचरण से सभी अरिष्ट नष्ट हो जाते हैं | यह विनायक – शान्ति सम्पूर्ण विघ्नों को दुर करने के लिये की जाती हैं | बिना किसी […]

धन तैरस की कथा | Dhantairas Ki Katha

धन तेरस 2021  का महत्त्व  कार्तिक कृष्णा त्रयोदशी तिथि को धन तेरस का त्यौहार मनाया जाता हैं | इस दिन धन्वन्तरी जयंती भी मनाई जाती हैं | देव चिकित्सक भगवान धन्वन्तरी का जन्म पुराणों के अनुसार एक समय अमृत प्राप्ति हेतु देवासुरों ने जब समुन्द्र मन्धन किया ,तब उसमे से दिव्य कान्ति युक्त , अलकरनो […]

बुधाष्टमी व्रत विधि, बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य | Budhashtmi Vrat Ki Vidhi

बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य Budhashtmi-vrat Ki Vidhi भगवान श्री कृष्ण बोले — अब में बुधाष्टमी व्रत का महात्म्य [ विधान ] बतलाता हूँ , जिसे करने वाला कभी नरक  का मुहँ नही देखता | जब जब शुक्ल पक्ष की अष्टमी को बुधवार पड़े तो उस दिन यह व्रत करना चाहिए | पूर्वाह में नदी आदि […]

लपसी तपसी की कहानी | Lapsi Tapsi Ki kahani

लपसी तपसी की कहानी Lapsi Tapsi Ki kahani एक लपसी था , एक तपसी था | तपसी तो भगवान की तपस्या करता था और लपसी सवा सेर की लपसी बना कर उसका भोग लगाकर जीम लेता | एक दिन दोनों लड़ने लगे | लपसी बोला में बड़ा , तपसी बोला में बड़ा | इतने में […]

Back To Top