वरुधिनी एकादशी व्रत कथा [ बैशाख ग्यारस कृष्ण पक्ष की कथा ] Varuthini Ekadashi

Last updated on April 9th, 2018 at 11:21 am

वरुधिनी एकादशी महत्त्व

भारत वर्ष के धार्मिक त्यौहार में से एक वरुधिनी एकादशी हैं | एक वर्ष में चौबीस एकादशी होती हैं | अधिकमास व मलमास के समय इनकी संख्या बढ़ कर 26 हो जाती हैं | प्रत्येक मास २ एकादशी आती हैं | बैशाख मास के कृष्ण पक्ष में आने के कारण इस एकादशी का नाम वरुधिनी एकादशी हैं | वरुधिनी एकादशी सुख़ , सौभाग्य तथा मोक्ष प्रदान करती हैं | वरुधिनी एकादशी का निराहार उपवास करने से सौ गुना अधिक फल मिलता | पद्मपुराण में भी वरुधिनी एकादशी का उल्लेख मिलता हैं | वरुधिनी एकादशी का कन्या दान के बराबर फल मिलता हैं | रात्रि जागरण कर इस दिन पतित पावनी एकादशी के दिन भगवान कृष्ण [ मधुसुदन ] का ध्यान , भजन करना चाहिए |

गणेश जी की कहानी पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

हनुमान चालीसा के पाठ करने के लिए यहाँ क्लिक करे 

वरुधिनी एकादशी व्रत कथा

युधिष्ठिर बोले – हे वासुदेव ! बैशाख कृष्ण पक्ष की एकादशी का क्या नाम हैं ? उसकी महिमा मुझसे कहिये | बैशाख कृष्ण पक्ष की एकादशी का नाम वरुधिनी है | वह इस लोक और परलोक में सौभाग्य प्रदान करती हैं | वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से व्रती सदा सुखी रहता हैं | पाप का क्षय और सौभाग्य की प्राप्ति होती हैं | इसका उपवास करने से मंद भाग्य वाली स्त्री भी सौभाग्यशाली हो जाती हैं | वरुधिनी एकादशी दोनों लोको में आनन्द प्रदान करने वाली हैं | मनुष्यों के सब पाप दुर करके पुनर्जन्म से मुक्ति देने वाली हैं | वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से मान्धाता को स्वर्ग में स्थान मिला | धुन्धमार आदि बहुत से राजा स्वर्ग को चले गये | भगवान शिवजी ब्रह्म कपाल से मुक्त हो गये | दस हजार वर्ष तक तप करने से जों फल मनुष्य को मिलता हैं , उसके समान वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से मिलता हैं |

मोहिनी एकादशी व्रत कथा पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

कुरुक्षेत्र में सूर्य के ग्रहण में एक मन सोना दान करने से जों फल मनुष्य को मिलता हैं वह फल वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से मिल जाता हैं | जों मनुष्य श्रद्धापूर्वक वरुधिनी एकादशी का व्रत करता हैं उसकी इस लोक और परलोक में इच्छा पूरी हो जाती हैं |

हे नृप सत्तम ! वरुधिनी एकादशी बहुत पवित्र हैं और व्रत करने वालो के पापो को दुर करने वाली, भक्ति , मुक्ति , को देने वाली और पवित्र करने वाली हैं | हे नृपश्रेष्ठ ! घोड़े के दान से हाथी का दान श्रेष्ठ हैं , हाथी के दान से भूमि दान , भूमि दान से तिल दान , तिल दान से स्वर्ण दान और स्वर्ण दान से अधिक अन्न दान श्रेष्ठ हैं |अन्न से उतम कोई दान न हुआ , न होगा | पितृ , देव , मनुष्यों की तृप्ति अन्न से ही होती हैं |

हे नृपोत्तम ! उसी के समान कवियों ने कन्या दान कहा हैं | भगवान ने स्वयं कहा हैं की गोदान उसी के समान हैं और कहे हुए सब दानों से श्रेष्ठ विद्धादान हैं |

वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से मनुष्य विद्धादान का फल पाता हैं | पाप से मोहित होकर जों मनुष्य कन्या के धन का निर्वाह करता हैं , वे मनुष्य महाप्रलय तक नरक में रहते हैं | इसलिये कन्या का धन कभी नहीं लेना चाहिए | हे राजेन्द्र ! जों कोई लोभ से कन्या को बेचकर धन लेता हैं , वह अवश्य ही अगले जन्म में बिलाव बनता हैं | जों कोई आभूषण पहनाकर यथाशक्ति कन्या का दान करता हैं , उसके पुण्य की संख्या करने को चित्रगुप्त भी समर्थ नहीं हैं | वही फल वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से मनुष्यों को मिलता हैं |

कांसे के बर्तन में भोजन , मांस , मसूर , चना , कोदो का शाक , शहद ,पराया अन्न , दुबारा भोजन – ये व्रत करने वाले वैष्णव को दशमी के दिन वर्जित हैं | जुआ खेलना , शयन करना , पान खाना , दातुन करना , दुसरो कि निंदा करना , चुगली पापियों से भाषण , क्रोध और झूठ ये कार्य एकादशी को वर्जित हैं | कांसे के बर्तन में भोजन , मांस , मसूर , चना , कोदो का शाक , शहद ,पराया अन्न , दुबारा भोजन – ये व्रत करने वाले वैष्णव को द्वाद्शी को वर्जित हैं |

हे राजन ! इस विधि से वरुधिनी एकादशी का व्रत करने से सब पापों को दुर करके अंत में अक्षय गति को देती हैं | रत में जागरण , भजन , कीर्तन करके जों भगवान जनार्दन का पूजन अर्चन करते हैं , वे सब पापों से छुट परम्गति को प्राप्त होते है | हे नरदेव ! इस कारण पाप और यमराज से डरे हुए मनुष्य को वरुधिनी एकादशी का व्रत करना उचित हैं |

हे राजन ! वरुधिनी एकादशी के व्रत की कथा पढने और सुनने मात्र से हजार गोदान का फल मिलता हैं और सब पापों से छुटकर विष्णुलोक में सुख़ भोगते हैं |

गुरुवार व्रत कथा पढने के लिए यहाँ क्लिक करे 

गुरुवार की आरती पढने के लिए यहाँ क्लिक करे