देवशयनी एकादशी व्रत , पूजा विधि ,पौराणिक कथा Dev Shayani Ekadashi Vrat , Puja Vidhi , Pouranik Katha

Spread the love
  • 666
    Shares

Last updated on August 27th, 2018 at 12:25 pm

देवशयनी एकादशी व्रत , पूजा विधि ,पौराणिक कथा

Dev Shayani Ekadashi Vrat , Puja Vidhi , Pouranik Katha

 आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता हैं | भगवान सूर्य के मिथुन राशि में आने पर भगवान श्री हरिविष्णु को शयन करा दे | तुला राशि में सूर्य के जाने पर भगवान श्री विष्णु को शयन से देवोत्थानी एकादशी को उठाये | सोमवार 23 जुलाई को देवशयनी एकादशी हैं | इसी दिन से चातुर्मास का आरम्भ माना जाता हैं |

 देवशयनी एकादशी व्रत पूजन विधि

Dev Shayani Ekadashi Vrat , Pujan Vidhi

भक्तिपूर्वक श्रद्धा से स्त्री या पुरुष आषाढ़ शुक्ल एकादशी को उपवास करे | प्रात: काल स्नानादि से निर्वत होकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर , भगवान विष्णु का ध्यान कर व्रत का संकल्प ले |

 

भगवान श्री हरी को दूध , दही , शक्कर , घी , जल भगवान की प्रतिमा को स्नान करा नवीन वस्त्र धारण करवाये | पूजन व आरती कर घी का दीपक जलाकर भगवान का प्रसाद भक्तो में वितरण कर नरम मुलायम गद्दे व तकिये से युक्त उत्तम शय्या पर शंख , चक्रधारी भगवान विष्णु को भक्तिपूर्वक शयन कराये |

देवशयनी एकादशी व्रत से देवोत्थानी एकादशी तक करे इन चीजो का त्याग :-

गुड – मधुर वाणी , तेल – सुंदर देह , कटु तेल – शत्रुओ का नाश , पुष्प – स्वर्ग प्राप्ति  ,पान [ ताम्बुल ] – श्रेष्ठ सुख ,  घी – अष्ट सिद्धिया , फल – बुद्धिमान आदि चीजो का त्याग करने से अगले जन्म में सभी सुख प्राप्त होता हैं | पृथ्वी पर शयन का संकल्प लेने से भगवान विष्णु का भक्त होता हैं |

देवशयनी एकादशी की पौराणिक कथा

 

किसी समय तपस्या के प्रभाव से भगवान विष्णु को प्रसन्न कर योगनिन्द्रा ने प्रार्थना की कि भगवान ! आप मुझे अपने चरणों में स्थान दीजिये | तब मैंने प्रसन्न हो योगनिन्द्रा को चार मास तक नत्रो में योगनिन्द्रा को स्थान दिया | यह सुनकर प्रसन्न होकर योगनिन्द्रा ने मेरे नेत्रों में वास किया | योगनिन्द्रा  में जब मैं क्षीर सागर में शेष नाग शय्या पर शयन करता हूँ , उस समय ब्रह्मा के सानिध्य में भगवती लक्ष्मी अपने हाथो से मेरे चरणों को दबाती हैं | क्षीरसागर की लहरे मेरे चरणों को धोती हैं | जो मनुष्य देवशयनी एकादशी का व्रत करता हैं उसे भगवान जनार्दन के चरण कमलो में स्थान प्राप्त होता हैं | शंख चक्र गदाधारी भगवान विष्णु कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जागते हैं |

 

 

यह भी पढ़े ;-

मन्दिर में घंटी बजाने का महत्त्व  

तनोट माता की आरती

हिन्दू संस्कृति की अनमोल धरोहर आरती 

प्रसाद का महत्त्व 

गाय का धार्मिक महत्त्व 

हाथ में मोली धागा बाँधने का धार्मिक महत्त्व 

मानस पूजा