saapndaa maata ki kahani | सांपदा माता कहानी

sapnda maata ki kahani | सांपदा माता कहानी

एक नल राजा था। उसकी रानी का नाम दमयंती था। एक दिन उनके महल के बाहर बुढ़ियामाई आई जो सांपदा माता का डोरा बांट रही थी और कहानी सुना रही थी। बुढ़ियामाई के आसपास बहुत सारी महिलाये डोरा ले रही थी रानी ने महल के ऊपर से देखा और दासी से कहा कि नीचे देख कर आ  यहां भीड़ क्यों हो रही है। दासी वहां जाकर देखती है और वापस आकर रानी को बताती है कि एक बुढ़ियामाई सांपदा माता का डोरा बांट रही है। बुढ़ियामाई कह रही थी कि यह डोरा कच्चे सूत की 16 तार की 16 गांठ देकर कच्ची हल्दी में रंग कर पूजा करके 16 नये [धान ] जौ के आखे हाथ में लेकर सांपदा माता की कहानी सुनकर गले में पहन  लेते हैं इससे अन्न धन और लक्ष्मी घर में आती है।सुख सौभाग्य सदैव बना रहता हैं | सन्तान निरोगी तथा गुणवान होती हैं |

 

तब रानी ने भी डोरे  की पूजा करके कहानी सुन कर गले में बाँध लिया | जब राजा जी बाहर से आये और डोरा देखकर बोले की रानी आज गले में क्या बांध रखा है तो रानी बोली की शारदा माता का डोरा बांध रखा है इससे धन लक्ष्मी बढ़ती है तो राजा बोला कि अपने पास तो बहुत धन  है और यह कहकर राजा ने डोरा फेंक दिया। उसी दिन रात को सपने में सांपदा माता बोली कि राजा मैं तुम्हारे घर से जा रही हूं तो राजा ने पूछा कि तुम कौन हो तो माता बोली कि मैं सांपदा हूं इसलिए जा रही हूं। अब तेरा धन कोयला हो जाएगा । सुबह उठकर जब राजा ने देखा तो सारा धन कोयला हो गया। यह देख कर राजा ने अपनी रानी से कहा की रानी हम यहां पर एक ब्राह्मण की लड़की को छोड़ देंगे जो रोज यहां पर दीपक जला देगी, पानी भरेगी ,घर में झाड़ू करेगी और घर में बैठी रहेगी और हम दूसरे गांव में जाकर कमायेगे | जब वह तालाब पर पहुंचे तो राजा ने वहां पर दो तीतर रानी को लाकर दीये  और कहा तू इन्हें भूनकर रख मैं अभी नहा कर आता हूं। रानी ने तीतर भून  लिए जब  दोनों खाने बैठे तो तीतर उड़ गए। इसके बाद राजा रानी के साथ बहन के घर पहुंचे बहन ने उन्हें पुराने घर में ठहरा दिया राजा रानी बहन के घर में गए तो वहां बहन के सोने का नौलखा हार पड़ा था।वह जमीन खा गई तो राजा रानी से बोले यहां से चलते नहीं तो अपने सिर चोरी का नाम आ जायेगा  और वहां  से दोनों चले गए। वहां से राजा अपने मित्र के घर गया तो उसने उन्हें पुराने महल में ठहरा दिया वहां पर गए तो वहां एक करोड़ का हार खूंटी पर टंगा हुआ था वहां पर मोरका चित्र बना था वह हार निगल गया।

 

तब राजा से रानी ने कहा कि यहां से चलो नहीं तो अपने सिर हार की चोरी लग जाएगी रानी ने कहा कि किसी के घर जाने के बजाय जंगल में लकड़ी काटकर बेच कर हम अपना पेट भर लेंगे। वे एक सुखे बगीचे में पहुंचे तो बाग हरा भरा हो गया। यह देखकर बाग का मालिक बहुत खुश हुआ। उसने देखा वहां पर स्त्री पुरुष सो रहे हैं उन्हें जगह कर बाग़ के मालिक ने पूछा कि आप कौन हैं जो बाग 12 वर्ष से सूखा था वह आज हरा भरा हो गया। यह सुनकर राजा रानी ने कहा कि हम राहगीर हैं काम की खोज कर रहे हैं यह सुनकर बाग के मालिक ने उन्हें वहां पर नौकरी दे दी। बाग  की मालिन ने  रानी से कहा कि तुम सिर्फ फूल की माला बाजार में बेच कर आया करो | और राजा रानी काम करने लगे | 1 दिन बाग़ की मालिन सापन्दा माता  कथा सुन रही थी और डोरा ले रही थी।रानी ने उससे पूछा की आप यह क्या क्र हे  उसने रानी को बताया कि यह सांपदा माता का डोरा है यह सुनकर रानी ने भी कथा सुनी और डोरा लिया राजा ने रानी से पूछा कि यह डोरा किसका  है तो रानी ने कहा कि यह वही डोरा है जो आपने एक बार तोड़ कर फेंक दिया था उसी कारण सांपदा माता हमसे नाराज हो गई हैं। राजा  ने कहा कि यदि तेरी सांपदा माता सच्ची है और इससे हमारे पहले जैसे दिन लौट आएंगे।
उसी रात राजा को पहले की तरह स्वप्न आया स्वपन में एक स्त्री कह रही थी मैं जा रही हूं तथा दूसरी स्त्री कह रही थी मैं वापस आ रही हूं जब राजा ने दोनों से नाम पूछा तो आने वाली ने अपना नाम लक्ष्मी बताया और जाने वाली ने दरिद्रता बताया। तो फिर राजा ने पूछा कि मुझे इसका पता कैसे चलेगा। तब सांपदा माता  ने कहा कि जब तुम सुबह कुएं से जल भरने जाओगे तो पहली बार में जौ निकलेंगे, दूसरी बार पानी निकालते समय हल्दी की गांठ निकलेगी और तीसरी बार में कच्चा सूत। दूसरे दिन सब कुछ वैसा ही हुआ फिर रानी ने सांपदा माता का डोरा लियाकहानी सुनी  और घर चले गए  माता ने उन्हें बहुत सारा धन दिया। फिर राजा ने बाग  के माली  से कहा कि अब हमारे 12 वर्ष पूरे हो चुके हैं और अच्छे दिन आ रहे हैं

 

 

 

इसलिए अब हम अपने घर जा रहे हैं तब माली  ने भी उन्हें बहुत धन दिया और विदा किया। वहां से राजा रानी सीधे अपने मित्र  के घर पहुंचे राजा के मित्र ने भी अब उन्हें महल में ठहराया फिर राजा ने कहा कि जहां हम पहले रुके थे हमें वही रुकना है पुराने महल में वहां जाकर देखा कि जो हार पहले मोर ने निगल लिया था वह हार खूंटी पर ही टंगा हुआ था अब राजा को विश्वास हुआ कि उसका कलंक उतर गया है। उसके बाद वहां पर गये जहां पर बच्छी को निगल लिया था वह बच्छी भी वही थी यह देखकर राजा ने रानी से कहा कि अब हमारे अच्छे दिन आ गए हैं। वहां से विदा होकर राजा रानी सरोवर के किनारे पहुंचे तो दोनों तीतर पड़े हैं वे समझ गये थे कि यह तीतर वही है जो उड़ गये थे  वहां से राजा और रानी अपने महल की तरफ गए और देखा कि जो दरवाजा टेढ़ा हो गया था वह भी ठीक हो गया है सोने की झाड़ीआ गई है दातन हरी हो गई है और जिस ब्राह्मण की बेटी को दीपक जलाने के लिए छोड़ कर गए थे अब उसे उन्होंने धर्म की बेटी बना लिया और बहुत सारा धन देकर उसका विवाह भी कर दिया। इसके बाद रानी नेगाजे बाजे से सांपदा माता व्रत का उद्यापन भी किया। सोलह ब्राह्मणीयो को भोजन करवाया और उन्हें सोलह तरीके का दान दिया सुहाग पिटारीया भी  दी  ।
हे सांपदा माता जैसी राजा को पहले दिया वैसा किसी को मत देना और जो राजा को बाद में दिया वैसा सभी को देना । कहानी
कहते सुनते हुंकारा भरते सारे परिवार को देना ।

अन्य समन्धित पोस्ट

दशा माता की कहानी 

पथवारी माता की कहानी 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top