गणेश जी भगवान की सेठ सेठानी की कहानी | seth sethani ki ganesh ji bhgwan ki kahani

गणेश जी भगवान की सेठ सेठानी पर अपनी कृपा बनाए रखने की कहानी एक गावं था जिसमे एक सेठजी अपने परिवार के साथ रहते थे । सेठजी का गावं के पास के ही शहर में बड़ा व्यापार था। सेठजी गणेश जी की पूजा श्रद्धा एवं विश्वास से करते थे। जिससे सेठ जी के घर में […]

श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा Vindheshwari Chalisa in Hindi

 श्री विंधेश्वरी चालीसा || दोहा || नमो नमो विन्ध्येश्वरी, नमो नमो जगदंब। संत जनों के काज में, करती नहीं बिलंब॥ || चौपाई || जय जय जय विन्ध्याचल रानी। आदि शक्ति जगबिदित भवानी॥ सिंह वाहिनी जय जगमाता। जय जय जय त्रिभुवन सुखदाता॥ कष्ट निवारिनि जय जग देवी। जय जय संत असुर सुरसेवी॥ महिमा अमित अपार तुम्हारी। […]

धर्मराज जी की परम भक्त पोपा बाई की कथा | popa baai ki katha | dharmraj ji ki bhakat popa baai

धर्मराज जी की परम भक्त पोपा बाई की कथा| popa baai ki katha| dhamraj ji ki bhakat popa baai एक गाँव में एक पोपा बाई रहती थी |  जब वह पाचं साल की थी तभी से वह नियम से धर्मराज जी व्रत की कथा सुनती थी और व्रत करती थी | एक दिन उसने अपने […]

सुखी जीवन अपनाये – शांति , समृद्धि और खुशहाली |SUKHI JIVAN ME YE GUN APNAYE – SHANTI , SMRIDDHI AUR KHUSHAHALI

सुखी जीवन जीने के लिए क्या करे क्या नहीं करे . सुखी जीवन अपनाये – शांति , समृद्धि और खुशहाली…….. जीवन में ये गुण अपनाये – शांति , समृद्धि और खुशहाली सुखी रहने के आसन उपाय अपनाए और सदैव खुश रहे करुणा,ईमानदारी,क्षमाशीलता,विनम्रता,मधुरवाणी,शांतचित गुणों को अपनाकर बनाये अपना जीवन सुखमय एव शांतमय  शांति समृद्धि खुशहाली  …. […]

Karpura Gauram Karuna Avataram) कर्पूरगौरं करुणावतारं,

Karpura Gauram Karuna Avataram कर्पूरगौरं करुणावतारं, कर्पूरगौरं करुणावतारं, संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम्। सदावसन्तं हृदयारविन्दे, भवं भवानीसहितं नमामि॥ इस मन्त्र में देवादिदेव भगवान भोल नाथ की स्तुति की गई हैं इसका अभिप्राय यह हैं की कर्पूरगौरं – भगवान भोलेनाथ गौरवर्ण वाले , करुणावतारं – करुणानिधि करुणा के सागर हैं , संसारसारम् सम्पूर्ण सृष्टि के सार हैं भुजगेन्द्हारम्- शेषनाग […]

दशामाता व्रत की कहानी , पूजा व्रत विधि 2021 , | Dashamata Vart ki kahani , puja Vidhi 2021

दशामाता व्रत की कहानी , पूजा विधि 06 अप्रैल 2021 दशा माता व्रत की पूजा विधि =  चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की दशमी को दशामाता का पूजन एवं व्रत करते हैं | होली के दुसरे दिन से ही दशामाता का पूजन एवं कहानी पुरे दस दिन सुनी जाती हैं | प्रतिदिन प्रात: स्त्रियाँ स्नानादि […]

दशावतार व्रत कथा , दशावतार व्रत विधान और फल | dshavtar-vrt-katha-phal-aur-vidhan

दशावतार – व्रत कथा , विधान और फल भगवान श्री कृषण कहते हैं —- राजन ! सतयुग के प्रारम्भ में भृगु नाम के एक ऋषि हुए थे | उनकी भार्या दिव्या अत्यंत पतिव्रता थीं | वे आश्रम की शोभा थी और निरन्तर ग्रहकार्य में सलग्न रहती थी | वे महऋषि भृगु की आज्ञा का पालन […]

विजया सप्तमी व्रत का महत्त्व , व्रत की विधि | Vijaya Saptmi Vrat Ka Mahattv , Vrat Ki Vidhi

विजया सप्तमी व्रत का महत्त्व , व्रत की विधि विजया सप्तमी व्रत किसी भी मास में शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को जिस दिन रविवार हो किया जाता हैं | इस व्रत में भगवान सूर्य की पूजा अर्चना की जाती हैं | यह व्रत पुत्र प्राप्ति तथा किसी भी कार्य में विजय प्राप्ति के लिए […]

क्यों हैं आरती करने का इतना अधिक महत्व | HINDU SANSKRITY KI ANMOL DHROHAR ARTI

क्या आप जानते हैं पूजा के  बाद क्यों की जाती हैं आरती आइये जानते हैं आरती करने का इतना अधिक महत्व क्यों हैं | जिस घर में हो आरती , चरण कमल चित्त लाय | तहां हरी बासा करें , ज्योत अनन्त जगाय || आरती का महत्त्व  शास्त्रों में नवधा भक्ति को उतम माना गया […]

प्रदोष व्रत कथा | प्रदोष व्रत की महिमा | PRADOSH VRAT KATHA PRADOS VRAT KI MAHIMA

प्रदोष व्रत कथा | प्रदोष व्रत की महिमा PRADOSH VRAT KATHA PRADOS VRAT KI MAHIMA  शिव और उनका नाम समस्त संसार के मंगलो का मूल हैं | शिव , शम्भु और शंकर – ये तिन उनके मुख्य नाम हैं और तीनों का अर्थ हैं — सम्पूर्ण रूपसे कल्यानमय मंगलमय और परम् शान्तमय | शिवोपासना के […]

Back To Top