Category: आरती

क्यों हैं आरती करने का इतना अधिक महत्व | HINDU SANSKRITY KI ANMOL DHROHAR ARTI

क्या आप जानते हैं पूजा के  बाद क्यों की जाती हैं आरती आइये जानते हैं आरती करने का इतना अधिक महत्व क्यों हैं | जिस घर में हो आरती , चरण कमल चित्त लाय | तहां हरी बासा करें , ज्योत अनन्त जगाय || आरती का महत्त्व  शास्त्रों में नवधा भक्ति को उतम माना गया […]

आरती बजरंग बलि [ हनुमान जी ] की | Aarti Bajrang Bali Ji Ki

  यत्र तत्र रघुनाथकीर्तनं तत्र तत्र कृतमस्त कान्ज्जलिम | वाष्पवारीपरिपूर्णलोचनं मारुतिंनमत राक्षसान्तकम ||      आरती         बजरंग बली आरती कीजै हनुमान लला की | दुष्ट दलन रघुनाथ कला की | जाके बल से गिरिवर कांपै | रोग – दौष जाके निकट न झांके || अंजनी     पुत्र       महा    बलदाई  […]

श्री नानण माता जी की आरती || Shree Nanan Mata Ji Aarti

नानण माता जी की आरती Nanan Mata Ji Aarti ॐ जय नानण माता , मैया जय नानण माता कुल रक्षक देवी सुख -सम्पति दाता ॐ जय नानण माता , मैया जय नानण माता मैं जननी जगदम्बा बन्धु  पिता – माता मैया  बन्धु पिता- माता तू ही सज्जन – सहाई , भक्ति मुक्ति दाता ॐ जय […]

माँ अम्बे जी की आरती | ARTI MAA AMBE JI KI

माँ अम्बे जी की आरती | ARTI MAA AMBE JI KI सर्व मंगल मांगलेय शिवे सर्वार्थ साधिके | शरनेय त्र्यम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते || माँ अम्बे जी की आरती ॐ जय अम्बे गोरी , मैया जय श्यामा गोरी | तुमको निश दिन ध्यावत , हरि ब्रह्मा शिवरी || टेक || मांग सिंदूर विराजत , टिको […]

आरती श्री अहोई माता | aarti-ahoi-mata-ki

आरती श्री अहोई माता | aarti-ahoi-mata-ki जय अहोई माता , जय अहोई माता | तुमको निशदिन ध्याता हरी विष्णु विधाता || जय || ब्रह्माणी रुद्राणी तुम कमला रानी , तू ही जग दाता | सूर्य चन्द्रमा ध्यावत नारद ऋषि गाता || जय || माता रूप निरंजन सुख़ सम्पत्ति दाता | जों कोई तुमको ध्यावत नित […]

श्रीजगन्मंगलराधा कवच तथा राधा कवच की महिमा | Shree Radha Kawach Aur Radha Kawach ki Mahima

श्री जगन्मंगलराधा कवच तथा राधा कवच की महिमा श्रीजगन्मंगल-राधाकवच तथा उसकी महिमा – श्री पार्वती बोली – श्री राधा जी की पूजा का विधान और स्तोत्र अत्यन्त अद्भुत है, उसे मैंने सुन लिया। अब राधाकवच का वर्णन कीजिये। आपकी कृपा से उसे भी सुनूँगी। श्री महेश्र्वर कहा– दुर्गे! सुनो। मैं परम अद्भुत राधा कवच का […]

भगवान महादेव जी की आरती HAR HAR MHADEV JI KI AARTI

 भगवान महादेव जी की आरती HAR HAR MHADEV JI KI AARTI सत्य , सनातन , सुन्दर , शिव ! शिव सबके स्वामी | अविकारी , अविनाशी , अज अन्तर्यामी || हर हर हर महादेव ………. आदि अनन्त , अनामय , सकल , कलाधारी | अमल , अरूप , अगोचर ,अविचल अघहारी || हर हर महादेव […]

आरती कृष्णजी की , कृष्ण वन्दना | aarti-krishn-ji-ki-shree-krishn-vandna

                         श्री  कृष्ण वन्दना भजे ब्रजैकमण्डनं समस्तपापखण्डन , स्वभक्तचितरंजनं सदैव , नन्दनन्दम | सुपिच्छगुच्छमस्तकम सुनादवेण हस्तकम , अनंगरंग सागरम नमामि कृष्णनागरम || आरती कृष्णजी की ॐ जय श्री कृष्ण हरे , प्रभु जय श्री कृष्ण हरे , भक्तन के दुःख सारे पल में दुर […]

शिवाष्टकं स्तोत्र | Shivashtakam Stotra

शिवाष्टकं स्तोत्र  Shivashtakam Stotra प्रभुं प्राणनाथं विभुं विश्वनाथं जगन्नाथ नाथं सदानन्द भाजाम् । भवद्भव्य भूतेश्वरं भूतनाथं, शिवं शङ्करं शम्भु मीशानमीडे ॥ 1 ॥   गले रुण्डमालं तनौ सर्पजालं महाकाल कालं गणेशादि पालम् । जटाजूट गङ्गोत्तरङ्गै र्विशालं, शिवं शङ्करं शम्भु मीशानमीडे ॥ 2॥ मुदामाकरं मण्डनं मण्डयन्तं महा मण्डलं भस्म भूषाधरं तम् । अनादिं ह्यपारं महा मोहमारं, […]

आरती भैरव जी भगवान की | Arti Bhairav Ji Bhgwan Ki

आरती भैरव जी भगवान जी की  जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा  जय काली और गौर देवी कृत सेवा॥ ॥ जय भैरव देवा…॥ तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक॥ ॥ जय भैरव देवा…॥ वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी॥ ॥ जय […]

Back To Top