Tag: ॐ सूर्याय नम:

पौष रविवार की कहानी , सूर्य पूजा की कहानी ,मल मास [ पौष ] का महत्त्व | poush -ravivar-ki-kahani-katha

पौष रविवार व्रत का महत्त्व , व्रत कथा मल मास एक माह तक रहता हैं | ये पौष मास में प्रारम्भ होते हैं | मल मास में समस्त शुभ कार्य वर्जित होते हैं | परन्तु इस समय अपने इष्ट देव की आराधना व दान पुण्य का विशेष महत्त्व हैं | इस मास में किये गये […]

सूरज [ सूरज रोट ] रविवार की कहानी | Suraj rvivar ki khani

सूरज रविवार का व्रत गणगौर पूजन करने वाली कन्याओं और स्त्रियों के लिए सूरज रविवार का व्रत करना आवश्यक माना गया हैं |  इस व्रत को ‘ होली पाछला रविवार ‘ व ‘ सूरज रोट का व्रत ‘ भी कहते हैं | होली के बाद और गणगौर से पहले आने वाले रविवार को यह व्रत […]

Back To Top