बड पूजन अमावस्या या वट सावित्री अमावस्या व्रत पूजन कथा | Vat Savitri Vrat Katha

Spread the love

वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ मास की अमावस्या को होता हैं | अखंड सौभाग्य की इच्छा रखने वाली महिलाये  तीन दिन के लिए वट सावित्री व्रत का संकल्प ले , नदी या तालाब या घर पर पानी में गंगाजल डालकर नित्य स्नान करे और अमावस्या को सरसों का उबटन लगाकर स्नान करे |

इस व्रत को विधि विधान से जों स्त्रियाँ  वट वृक्ष का पूजन व्रत करती हैं वे पुत्र , पोत्र , धन सम्पूर्ण सुख़ भोगकर पति के साथ ब्रह्म लोक में स्थान प्राप्त करती हैं }

पूजन सामग्री : – अंकुरित चने , कुमकुम , अक्षत , मोली , कच्चा सूत , पुष्प , फल , दक्षिणा जल का कलश आदि |

वट सावित्री अमावस्या व्रत कथा

[ बड पूजन अमावस्या }

प्राचीन काल में एक सत्यवादी प्रजापालन में व्यस्त अश्वपति नाम का राजा राज्य करता था , उसे कोई सन्तान नहीं थी | इसलिये उसने अपनी पत्नी के साथ मिलकर माँ सावित्रीं की कठोर पूजा व आराधना की ,आराधना से प्रसन्न हो माँ सावित्री ने राजा को वर दिया की राजन ! तुम्हे मेरे ही अंश से एक सुन्दर गुणवान कन्या उत्पन्न होगी |’ इतना कहकर अंतर्ध्यान हो गई और नवे महीने माँ सावित्री की कृपा से एक सुंदर कन्या उत्पन्न हुई | माँ सावित्री की कृपा से उत्पन्न होने के कारण उस कन्या का नाम सावित्री रखा | धीरे – धीरे वह विवाह योग्य हो गई | सावित्री ने गुरु की आज्ञा से सावित्री व्रत किया | एक दिन पिता की दृष्टि सावित्री पर पड़ी और उसे विवाहयोग्य जानकर अमात्यो से उसके विवाह के विषय में मन्त्रणा की और अपनी पुत्री को आज्ञा दी की पुत्री ! तुम अमात्यो के साथ जाकर स्वयं अपनी इच्छा अनुसार कोई श्रेष्ठ वर चुन लो | सावित्री भी पिता की आज्ञा से मंत्रियों व अमात्यो के साथ चल पड़ी | कुछ समय में ही कई राज्यों , आश्रमों ,गुरु जनों से आशीर्वाद लेकर अपने पिता के पास लौट आई | सावत्री ने देखा पिता के पास देवर्षि नारद बैठे हुए हैं | देवर्षि नारद व पिता को प्रणाम कर बताया की शाल्व देश में घुमत्सेन नाम के राजा हैं | उनके सत्यवान नाम का पुत्र को मेंने चुना हैं | सावित्री की बात सुन देवर्षि नारद ने कहा वहाँ सब सुख़ हैं पर सत्यवान अल्पायु हैं | सब ने सावित्री को समझाया पर सावित्री ने कहा मैंने मन से सत्यवान को पति रूप में चुन लिया हैं , जों वचन लिया हैं वही करना चाहिए , और में वही करूंगी सावित्री का दृढ निश्चय देखकर सावित्री का विवाह शुभ मुहूर्त में सत्यवान के साथ कर दिया | सावित्री अत्यधिक प्रसन्न हुई | दोनों आश्रम में सुख़ पूर्वक रहने लगे पर सावित्री के मन में नारद जी की बात खटकती थी | अपने पति की मृत्यु का समय निकट जानकर सावित्री ने तिन रात्रि का व्रत ग्रहण कर लिया और वह भगवती सावित्री का जप , तप , ध्यान , पूजन करती रही | माँ सावित्री से मन ही मन अखंड सोभाग्यवती का आशीर्वाद मांगती रही, और सावित्री ने तीन दिन विधि विधान से पजा समनं कर पितरो का तर्पण कर अपने सास – ससुर के चरणों में प्रणाम किया |

सत्यवान जंगल से लकड़ी लाय करता था , सावित्री ने भी साथ जाने की इच्छा जताई | सत्यवान  ने कहा सास ससुर  की आज्ञा ले लो  | जब सास ससुर की आज्ञा लेने गई तो पहले तो सास ससुर ने मना किया पर फिर मान गये | दोनों साथ साथ वन में गये | सत्यवान ने लकड़ी काट कर गठर बनाया उसी समय उसके सिर में भयंकर दर्द हुआ | उसने सावित्री से कहा – ‘ प्रिये !  मेरे सिर में दर्द हैं सावत्री ने अपने पति का सिर गोद में रखा और आराम करने को कहा | उसी समय यमराज वहाँ आ गये | सावित्री ने उन्हें प्रणाम किया और कहा – प्रभु ! आप कौन हैं ? मेरे पास क्यों आये हैं ?

यमराज जी कहा – सावित्री ! मेरा नाम यमराज हैं | तुम्हारे पति कि आयु समाप्त हो गई ,परन्तु तुम पतिव्रता हो , इसलिये मेरे दूत इसको न ले जा सके अत: मैं स्वयं लेने आया हूँ | इतना कहकर यमराज के शरीर से अगुष्ठ मात्र के पुरुष को खीच लिया और उसे लेकर अपने लोक को चल पड़े | सावित्री भी उनके पीछे चल पड़ी | बहुत दुर जाकर यमराज ने सावित्री को जाने को कहा पर वह नहीं मानी और बोली मुझे कोई कष्ट नहीं हो रहा मैं सुखपूर्वक चली आ रही हूँ | जिस प्रकार सज्जनों की गति संत हैं , वर्णाश्रमो का आधार वेद , शिष्यों का आधार गुरु और सभी लोगो का आश्रय स्थान पृथ्वी हैं उसी प्रकार स्त्री का सहारा केवल एक मात्र उसका पति हैं अन्य कोई नहीं | ‘

इस प्रकार सावित्री के वचनों को सुनकर यमराज प्रसन्न होकर कहने लगे ! मैं तुमसे प्रसन्न हूँ कोई वर मांगो लो |’ तब सावित्री ने विनय पूर्वक वर माँगा – मेरे  सास – ससुर के नेत्र अच्छे हो जाय उन्हें राज्य मिले , मेरे सौ पुत्र हो , मेरे पति दीर्घायु हो , हमारी सदा धर्म में श्रद्धा बनी रहे | यमराज ने ततास्तु कहा और सत्यवान को सावित्री को दे दिया | अत्यधिक प्रसन्ता से सावित्री और सत्यवान आश्रम आ गये यह वट पूजन अमावस्या व वट सावित्री माता व्रत का ही फल हैं |

|| जय माँ सावित्री ||