Tag: श्राद्ध कर्म

श्राद्ध में पितरों के तृप्तिविषय का वर्णन | sraadh men pitro ke tripti vishay ka varnn

अष्टाशीतितमो (88) अध्याय :अनुशासनपर्व दानधर्म पर्व महाभारत: अनुशासनपर्व: अष्टाशीतितमो अध्याय: श्लोक 1 से 10 का हिन्दी अनुवाद श्राद्ध में पितरों के तृप्तिविषय का वर्णन युधिष्ठिर ने पूछा- पितामह ! पितरों के लिये दी हुई कौन-सी वस्तु अक्षय होती है? किस वस्तु के दान से पितर अधिक दिन तक और किसके दान से अनन्त काल तक […]

Back To Top