Tag: जय जय श्री हरि

Karpura Gauram Karuna Avataram) कर्पूरगौरं करुणावतारं,

Karpura Gauram Karuna Avataram कर्पूरगौरं करुणावतारं, कर्पूरगौरं करुणावतारं, संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम्। सदावसन्तं हृदयारविन्दे, भवं भवानीसहितं नमामि॥ इस मन्त्र में देवादिदेव भगवान भोल नाथ की स्तुति की गई हैं इसका अभिप्राय यह हैं की कर्पूरगौरं – भगवान भोलेनाथ गौरवर्ण वाले , करुणावतारं – करुणानिधि करुणा के सागर हैं , संसारसारम् सम्पूर्ण सृष्टि के सार हैं भुजगेन्द्हारम्- शेषनाग […]

Back To Top