पितृ पक्ष 2019 तारीख 13 सितम्बर शुरू 28 सितम्बर तक , पितृ देव की आरती | Pitar Paksha 2019 Date , Piter Dev Ji Ki Aarti

Spread the love
  • 122
    Shares

Last updated on September 13th, 2019 at 08:30 am

इस वर्ष 13 सितम्बर से 28 सितम्बर तक हैं पितृ पक्ष पितरो को प्रसन्न करने के अद्भुद दिवस | भाद्रपद पूर्णिमा से ही श्राद्ध पितृ पक्ष शुरू होते हैं जो आश्विन अमावस्या तक चलते हैं | श्राद पक्ष में आने के कारण इस पूर्णिमा का महत्त्व बढ़ जाता हैं | इस पूर्णिमा को दान करना , ब्राह्मण भोज करवाना उत्तम होता हैं | श्राद्ध पक्ष के कारण यह पूर्णिमा अत्यंत ख़ास हैं | पूर्वजो को स्मरण करने का दिन होते हैं श्राद्ध | भाद्रपद पूर्णिमा को पितरों का पूजन तर्पण , पिंडदान करके सत्यनारायण भगवान का पूजन व कथा सुनने से सभी मनवांछित फलों की प्राप्ति होती हैं |

शुक्रवार 13  सितम्बर से सोमवार 28 सितम्बर इन सोलह दिनों में हिन्दू लोग अपने पितरों को श्रद्धा पूर्वक पूजन करते हैं और उनके लिए पिंड दान करते हैं | जो व्यक्ति पितृ कर्म [ श्राद्ध , तर्पण , पिंड दान , ब्राह्मण भोजन ] करता  हैं उसे दीर्घायु ,यश , धन ,समृद्धि , उत्तम गुणवान सन्तान , की प्राप्ति होती हैं |

पितृ पक्ष 2019 तारीख

13     सितंबर  शुक्रवार पूर्णिमा श्राद्ध
14     सितंबर  शनिवार प्रतिपदा श्राद्ध
15     सितंबर  रविवार द्वितीया श्राद्ध
1 7     सितंबर  मंगलवार तृतीया श्राद्ध
18     सितंबर  बुधवार महाभरणी चतुर्थी श्राद्ध
19     सितंबर  बृहस्पतिवार पंचमी श्राद्ध
20    सितंबर  शुक्रवार षष्ठी श्राद्ध
21    सितंबर  शनिवार सप्तमी श्राद्ध
22    सितंबर  रविवार अष्टमी श्राद्ध

 आशा भागोती व्रत कथा पूजन विधि  प्रारम्भ

23   सितंबर  सोमवार नवमी श्राद्ध
24   सितंबर  मंगलवार दशमी श्राद्ध
25   सितंबर   बुधवार एकादशी श्राद्ध

द्वादशी तिथि श्राद्ध

26  सितंबर  बृहस्पतिवार त्रयोदशी श्राद्ध
27  सितंबर   शुक्रवार चतुर्दशी श्राद्ध
28  सितंबर    शनिवार सर्वपितृ अमावस्या श्राद्ध

पितृ पक्ष के अंतिम दिन को सर्वपितृ अमावस्या के नाम से जाना जाता हैं | पितृ पक्ष का महत्त्वपूर्ण दिन होता हैं |

पितर देव जी की आरती

जय जय पितर महाराज , मैं शरण पड़यो हूँ थारी |

शरण पड़यो हूँ थारी बाबा शरण पड़यो हूँ थारी ||

जय जय …………..

आप ही रक्षक आप ही दाता , आप ही खेवनहारे |

में मूरख हूँ कुछ नहीं जाणु , आप ही हो रखवारे ||

जय जय ………………

आप खड़े हैं हरदम हर घड़ी करने मेरी रखवारी |

हम सब जन हैं शरण आपकी , आप ही करो सहाई ||

जय जय …….

देश और परदेश सब जगह , आप ही करो सहाई |

कम पड़े पर नाम आपको लगे बहुत सुखदाई ||

जय जय ………

भक्त सभी शरण आपकी , अपने सहित परिवार |

रक्षा करो आप ही सबकी रटूं मैं बारम्बार ||

जय जय …………………….

अन्य

पितृ पक्ष , श्राद्ध की महिमा , श्राद्ध करने के पवित्र लाभ