श्री गणेश जी भगवान की कहानी | Ganesh Bhagwan Ji Ki Kahani

Spread the love
  • 1K
    Shares

Last updated on August 19th, 2019 at 11:34 am

श्री गणेश जी भगवान की कहानी

विष्णु भगवान लक्ष्मी जी का शुभ विवाह होने लगा | समस्त देवी – देवता को बारात में जाने के लिए बुलाया गया तो गणेशजी भगवान को नहीं बुलाया सोचा अच्छे नही लगेगें | सुन्ड सुन्डयाला , दुन्द दुन्द्याला , छाजले से कान , मोटा मस्तक वाले हैं बारात में अच्छे नहीं लगेगें | उनको घर की रखवाली को छोड़ जाते हैं | समस्त देवताओ के साथ गाजे बाजे से बारात रवाना हो गई | नारद मुनि ने गणेशजी को भड़का दिया की आप अच्छे नही लगते इसलिए आपको लेकर नही गये | यह सुन गणेशजी ने अपने चूहों को भेजा , चूहों ने सारी धरती थोथी कर दी | धरती थोथी होते ही भगवान के रथ के पहिये धरती में धस गये | सब ने निकालने का प्रयास किया पर सफलता नहीं मिली | थक कर खाती को बुलाया उसने आते हीरथ को निकलते हुए बोला जय बोलो गणेशजी भगवान की और रथ का पहिया निकल गया |

तब सब देवताओ ने पूछा गणेशजी को क्यों याद किया ? तब खाती बोला “ गणेश जी को सुमरे बिना कोई काम सिद्ध नही होता |” सब सोचने लगे हम तो गणेशजी को वही छोड़ आये | संदेस भेज गणेश जी को बुलवाया | सर्व प्रथम गणेशजी का रिद्धि सिद्धि से विवाह करवाया फिर श्री भगवान विष्णु जी का विवाह लक्ष्मी जी से करवाया | घटती हो पूरी करज्यो | कहता न , सुनता न म्हारा सारा परिवार पर अपनी कृपा रखना |

करवा चौथ की कहानी के बाद गणेशजी की कहानी सुने |

हें ! गणेशजी भगवान जैसे भगवान का कारज सिद्ध किया वैसा सबका करना |

|| जय गणेशजी भगवान की जय ||

अन्य समन्धित पोस्ट

देव अमावस्या , हरियाली अमावस्या

छोटी तीज , हरियाली तीज व्रत , व्रत कथा 

रक्षाबन्धन शुभ मुहूर्त , पूजा विधि 15 अगस्त 2019

कजली तीज व्रत विधि व्रत कथा 18 अगस्त 2019

भाद्रपद चतुर्थी [ बहुला चतुर्थी ] व्रत विधि व्रत कथा

नाग पंचमी व्रत कथा

हलधर षष्ठी व्रत विधि व्रत कथा [ उबछठ ]

जन्माष्टमी व्रत विधि , व्रत कथा

गोगा नवमी पूजन विधि , कथा

सोमवार व्रत की कथा

सोलह सोमवार व्रत कथा व्रत विधि

मंगला गौरी व्रत विधि , व्रत कथा

स्कन्द षष्टि व्रत कथा , पूजन विधि , महत्त्व

ललिता षष्टि व्रत पूजन विधि महत्त्व

कोकिला व्रत विधि , कथा , महत्त्व